जैन तत्त्वादर्श | Jain Tatwadarsh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Jain Tatwadarsh by श्री आत्माराम जी - Sri Aatmaram Ji
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
14 MB
कुल पृष्ठ :
592
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

श्री आत्माराम जी - Sri Aatmaram Ji के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
(४)विषय पृष्ठ ५. जिनमंदिर का निर्माण * ३५१९ ६. जिनप्रतिमा का निमाण है ७. प्रतिमा की प्रातिष्ठा ३४८ ८. परदीक्षा ' ३४९, . तत्पद्स्थापना ३७२ १०, पुस्तकलेखन ३४९ ११. पौषधद्याला का निमाण इ१० १२. ज्ञीबन पयेन्त सम्यक्त्वद्दान का पालन. ३४१ १३. जीवन पयेन्त ब्रतादि का पालन ३५९२४. आत्मदीत्ता --भाव श्रावक ३५९१४. आरम्भ का त्याग... ३४७४ १६, ज्ञीवन प्यन्त ब्रह्मचये ३५४ १७, ग्यारह प्रतिमा _ ३४७४ सलेखना ३५६१८. आराधना के दस मेद्‌ ३५७एकादश परिच्छेद डेजेनमत सम्बन्धी झ्रांतियां “३५८ वादा ५९कुछकर और उन की नीति... देर




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :