हीराबाई | Heerabai

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Heerabai by पं. किशोरीलाल गोस्वामी - Pt. Kishorilal Goswami
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
4 MB
कुल पृष्ठ :
27
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

पं. किशोरीलाल गोस्वामी - Pt. Kishorilal Goswami के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
श्9 . हीराबाईभेजा सलवार सके क | नह. नरगए तुम सपनो तयारी करो, साज साघी रात के समय कसलादेवी का डोला चपचाप तुस्हारे पास भेज दिया जायगा 1-स्थ्डॉलिडन- सातवां परिच्छेद । परिचय । * मद्थ यत्कृतं राजन्‌ तन्मयां नैव विस्सृतम्‌ 1 त्वदर्थ सम्प्रदास्यामीदानीं प्राणनिमानहम्‌ ॥ ( महाभारते ) यह होराबाइ कौन थी, जिसने कसलादेवी की सारी बला सपने ऊपर लेली ! सुनिए, कहते हैं, यह बात हम पहिले लिख स्रार हैं कि झुलाउद्दीन ने तरू,त पर बेठते ही [ सन ९२४७ इंस्वी ] गुजरात को फतह कर उसे सपनी सर्तनत में मिलालिया था । उसी लड़ाई में अ्रुलाउद्दीन का एक फ़ोजो सफसर हसनखां मारा गया था, जिसकी बीबी लडाइ के वक्त उसके साथ थी सौर सपने प्यारे शौहर के मारे जाने से दुखी हो, वह अपनी पांच-चार बरस की लड़की को गोद में ले रक जंगल में चली गई. थी । जिस दिन वह रक पेड़ में फांसी लगा सौर सपने गले में सपनी लडकी के गले को भी बांध कर ' जान देने की फ़िक्त. से लगीहुई थी । उस दिन




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :