पंच यज्ञ - प्रकाश | Panch Yagya Prakash

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Panch Yagya Prakash by बुद्धदेव विद्यालंकार - Buddhdev Vidyalankar
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
4 MB
कुल पृष्ठ :
206
श्रेणी :

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

बुद्धदेव विद्यालंकार - Buddhdev Vidyalankar के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
पद्च यज्ञ-प्र काश श्शबदलने वाली इच्छा की धाराएं अथवा ठीक विकह्पें को. कहें तो इच्छा के कण दोते हैं, उन्हें सकजल्प संकरप सम- कहते हैं । बह तो बस्तुत: विकल्प हैं । सना भूल हैं. सडल्प नाम विखरे कर्णों का नहीं किन्तु एक अविच्छिन्न घारा का है । विचार-सात्र जो हमारे इदय में उठते हें संकल्प नहीं कदला सकते । फिर प्रश्न उठता है सडुल्प किस विचार-विशेष का नास है ? सक्ुल्प उस विशेप दृढ़ इच्छा का नाम हैं जिसके लिये किसी ने अपना सम्पूण जीवन अथवा उसका एक सुख्य माग चअपंग कर दिया दो । आज इस प्र कार के भावों का, अभाव ही हमारे सन्ध्या में चित्त न लगने का कारण हैं । वत्त सान युग का सब से वड़ा रोग यह सड्ल्प-द्वीनता है । यह नहीं कि हमारे संकल्प अशिव हैं, किनठु न हमारे संकल्प शिव हैं, न अशिव । हस लोगों के चित्त संकल्प-द्दीन हैं । इसीलिये न्नह्मयज्ञादि किसी यज्ञ में भी हमारा चित्त सहीं लगता । अब हम संक्षेप से संकल्प किस प्रकार सम्पूण वर्णांश्रम मयांदा का मूल है यह दिखाते हैं । योगद्शेन के च्यास-माप्य में त्रह्लचय्य का लक्षण इसश हु 1! ।सुरप जौ. मैकार किया है. “'न्रह्मचय्य शुप्तेन्द्रियस्योपस्यस्थ ब्रद्चर्् _. सेयम: 1? अब देखने की वाव है कि यदद 'झर्थयहाँ किस प्रकार हुआ । न तो नज्रह्म का जो कि दुजेयतस होने के कारणश्थ ्न्थ (31 न दि श्र 71.




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :