नय वाद | Nayavad

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Nayavad by विजय मुनि शास्त्री - Vijay Muni Shastriश्री फूलचंद्र - Shri Fulchandra

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

विजय मुनि शास्त्री - Vijay Muni Shastri

No Information available about विजय मुनि शास्त्री - Vijay Muni Shastri

Add Infomation AboutVijay Muni Shastri

श्री फूलचंद्र - Shri Fulchandra

No Information available about श्री फूलचंद्र - Shri Fulchandra

Add Infomation AboutShri Fulchandra

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
द । उपक्रम >मारतीय-सस्हति में, वसन्त-समय को मधु माम नहीं गया है 1 वसच््त समय सुम्दर,सुरभित्त श्रौर सरस हाता है। जिस समय प्रति के प्रापण में वसस्त समवत्तरित्त होता है; उस समय सर्वत्र नया जीवन, नयी चेतना शभ्रौर नया जागरण प्रादुशूत हो जाता है । प्रकृति के वणण-वणा में श्रानन्द, हुप श्र चरलास प्रकट होने लगता है । भ्रणु से महान श्रौर महान से भ्रणु समस्त प्रइंतिनजगत्‌ भ्रमितव सौन्दय एच दूभुन माधुयं से भर जाता है । मधु मास, श्रर्थात्‌ वसम्त झानन्द का प्रतीक मानो गया है. । सुरभिन वसन्त का. सुन्दर समय था । जगती-तल पर चारों भ्ोर “हरियागी का प्रसार था। तर और लताएँ पल्‍्लवित, पुष्पित तथा फलित होकर श्रानन्द में भूम रहे थे । अभिनव विसलया के सौदर्यें से, सुमनो के सौरभ से श्रीर फंला के मधुर रस से तरु भ्रौर लताएँ मानो, जन-सेवा करने की सौभाग्य सचित कर रही थी 3




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now