सड़कवासी राम | Sadakavasi Ram

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : सड़कवासी राम - Sadakavasi Ram

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about हरीश भादानी - Harish Bhadani

Add Infomation AboutHarish Bhadani

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
शुगा जंगतस भर जो रह गया है हमारा भाज; कोई'**कोई दूसरा नहीं लिखता किसी की भी नियति यह सब तो हमारे, हां हमारे सोच, हमारे कर्म का परिणाम, पानी जो मर गया है अब कैसे सड-झगड से लें समझ के धडतिये से पूरे भीतर को खीच दाहर निपट आदम-सा उधाडने वाली भाषा; न जोड पाएंगे हम उनसे कभी आंखें तो आा **आ उन्हे सुनकर हम अपना सत्य शिव तो से ही लें सुनें”**पावो की थपक वे भा रहे हैं '* हमसे ही नहीं हमसे भी बहुत पहले दी जाती रही काली कामरी को बोच से ही फाड़कर वे भा रहे हैं ! भा, उनके नहीं अपने ही बित्ता-भर रह गए भविप्यत के नाम आ, चुपचाप बिछ जाएं सडक हो जाए उनके लिए ! सड़कबासी राम / 19




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now