अनकहनी भी कुछ कहनी है | Anakahani Bhi Kuch Kahani Hai

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Anakahani Bhi Kuch Kahani Hai by त्रिलोचन शास्त्री - Trilochan Shastri

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about त्रिलोचन शास्त्री - Trilochan Shastri

Add Infomation AboutTrilochan Shastri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
धन की उतनी नहीं मुझे जन की परवा है जितनी जो मुझ से खुल कर मन से मिलता है मैं उस का वशवर्ती हूँ. इस से खिलता है मेरे प्राणों का शतदल. एक ही दवा है जीवन के सौरोगों की, चाहो तो ले लो अच्छे होगे स्वयं, दूसरों के भी दुख को काट सकोगे, उगा सकोगे सबके सुख को, अपनापन सबं पर पसार दो. खल कर खेलो जीवन के सव खेल, न' चिता चेश रहेगी, सभी ओर अपने ही देगे सदय दिखाई नहीं रहेगा कोट, नहीं होगी यह खाई शतु मित्र की. गोरे कलि की न बहेगी नदी खून की, खून एक ही दोनों में है, वही हवा आँगन में है जो कोनों में है. 26. 4. 1951 अनकहनी भी कुछ कटनी है 17




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now