कनुप्रिया | Knupriya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : कनुप्रिया - Knupriya

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about धर्मवीर भारती - Dharmvir Bharati

Add Infomation AboutDharmvir Bharati

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
नहीं मेंरे सांवरे,! पमुना के नीछ़े जल में मेरा यह्‌ वेतस छता सा क्रांपता तन-विम्ब, और उसके चारों ओर्‌ स्वरी गहराई का अथाह प्रसार, जानते हों कसा छंगता है-- मानो यह यमुना की सांवली गहरा्र नहीं यह तुम हो जो मारे भावरण दूर यार मे चारों ओर से कण-कण रोम-सेम भपनें ब्यामल प्रयाढ़ अधाह आलिगन में पोर-पोर उप हे 2 क्र त =! कसे हुए हो ! यह्‌ क्या तुम समभते हो घुण्टों-- जल में--में अपने को निहार्ती हूं नहीं मेर॑ सांवर ! १८ . शनुत्रिपा




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now