विजातीय विवाह मीमांसा | Vijatiya Vivaha Mimansa

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : विजातीय विवाह मीमांसा  - Vijatiya Vivaha Mimansa

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
~> 4 54१ + ८:१8 \ ४ मा, 2207 १, गिर , (६ प वर शा कि | ९ * है किःयदिउन्ह एसा सुधार, मुखिर के खिलाफ होकर करना तो विनय, से. कॉम लें बसे: सुधारक मो देखे जाते हैं जा मुखियो को लुच्छ मान: कर उन्हे चुनौती देते है क तममे 2 १) ०१ सकें जः शेसक्षेसो ए पसी अहलित.करने से सुधार रुकता ५६ वकुल नवल; हागगा हो झार इस 1 गया तोश्सुधारक एक तरह. करा यू स्तेचढाचारि- सुधार नहीं हैं। उस वी नीचे: गिरता ४ ह को जरुरत नहीं: कि इस :पथसे सार को को अच्छी 4 | 4 4९५ 1 ५६. 9 # (नी ५ < ष छ च & = ~: स (0 4 ४, 4 मिलसकती है न्यर्थं कौ अग्निः चिरकाल तक ईंधन से की नहीं. रह सकती । आज; सुधारकों के विरोधी हैं कल थे हो हवस से व १ मिलाने झायेंगे। साधारण ' समांजी में भी लोभौ की कमी नहीं है. जो. इस दिति की बाद देखरहे हैं दिः आर भंड लेकर खड़े होंगे वे/उसी समय चुपचाप ? के“ डर ५५ :. # १९ १५ ६ हा कर 4 शरा ५ ६: 1९3 (1 मेड 0 १५११ ५ ^ ५९५००१८. १११५) {0.५६ च बिग रा ५८ निव न > म ह ५२.५१ ११ काश सन रे, कप हि, ८५, ० १ का ; के सिपे बाप {क 2 १,५५.१, मू कायं च रणि समिति बनाई जय जा ~» १.५९ अमि ११ (4 [ह ति ५ ॥९ ५.० 45 1 > १५३२५. ५७ क्यं ड. १ दर परि कयि कमः परागें बढ़े, तो सफलता शीघ्र ६१ ४१ सरल 0 . : साहि एद्‌ रौलाल न्यायतोथ शीर । - १११ है मन ५६




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now