सूर पूर्व बृजभाषा और उसका साहित्य | Soor Purva Brijbhasha aur Uska Sahitya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : सूर पूर्व बृजभाषा और उसका साहित्य  - Soor Purva Brijbhasha aur Uska Sahitya

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about शिवप्रसाद सिंह - Shivprasad Singh

Add Infomation AboutShivprasad Singh

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सिक प्रास्तान कि ६१ विक्रम की सत्रहवीं दतान्दी के पूर्वाद्ध में ब्रजभाषा में अत्यन्त उच्चकोटिके साहित्य का निर्माण हुआ । ऐसा समझा जाता है कि केवल पचास वर्षों में इस भाषा ने अपने साहित्य की उक्छरएटता, मधुरता मौर प्रगल्मता के बर पर उत्तर भारत की सर्वश्रेष्ठ भ षा का स्थान ग्रहण कर लिया । भवित-आन्दोलन की प्रमुख भाषा के रूप में उसका प्रभाव समूचे देश में स्थापित हो गया घौर गुजरात से बंगाल तक के विभिन्‍न भाषा-भाषियों ने इसे 'पुरुपोत्तम- भाषा' के रूप में अपनाया तथा इसमें काव्य-प्रणयन का प्रयत्न भी किया । एक ओर महाप्रभु वल्लमाचार्य ने इसे पुरुषोत्तम भाषा को आदरास्पद सज्ञा दी क्योकि यह उनके आाराध्य देव कृष्ण को जन्म-भूमि की भाषा थी, टूसरी ओर काव्य भर साहित्य के प्रमी सहृदयो ने इसे 'मापामणि' की प्रतिष्ठा प्रदान की । डॉ० प्रियर्सन ने हिन्दी के अभिजात साहित्य के माध्यम के रूपमे प्रतिष्ठित इस मापा को प्रधानतम वोी { 09६९५०5 72€०1५० ) कहा ह । इसे वे मघ्यदेक कौ आदद भाषा मानते ह 1 मण्डप के कवियो कौ रचनामो का सौष्ठव ओर सौन्दयं अप्रतिम था! उनके सगोतमय पदो से आकृष्ट होकर सम्राट्‌, अकबर इस माषा के भक्त हो गये । डॉ० चादुर्ज्या ने इसी तथ्य कौ गोर सकेत करते हुए लिखा है कि “बाबर के सदृश एक विदेशी विजेता के किए जो भाषा केवल मनोरंजन और साहित्यिक औत्सुक्य का प्रयोग- मात्र थो वही उसके भारतीयकृत पौत्र सम्राट अकबर के काल तक पूर्णतया प्रचलित स्वाभाविक 1 ॥ ४८2 णि) जत ४५६4६10 [लधगणढर्ण 8 ८8551081 06110 अतं 15 8108 €जौ- ९661९ {० ७९ धी< तव]€6०§ एछतपठ साठ पाठ ५५६ 95 ८जाधएंडाडत 85 (५०21 न गीगाएं .आापुण०0७ एप प्6 ०080 00 ठप (6726195, रिः, 8 दे ५ + #




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now