उरू - ज्योति वैदिक अध्यात्मसुधा | Uroo Jyoti Vaidik Adhyatmasudha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : उरू - ज्योति वैदिक अध्यात्मसुधा  - Uroo Jyoti Vaidik Adhyatmasudha

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about वासुदेवशरण-Vasudevsharan

Add Infomation AboutVasudevsharan

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
निवन्ध सूची प्यार © > न निवन्ध १ कः दर ३. 1 प ६ ७. ८. ९ १ १ १२ १३ १४ १५ १६ १७ श 9 + ० सप्र की रूप॑ रूप प्रतिरूपो वभूव एक सद्िप्रा वहुधा बद्न्ति द--द्‌--द्‌ न्नह्मपुरी 5 वैदिक परिभाषा में शरीर की सश्ञाएं न्रह्मचयं चाजपेय-विद्या . . च्यवन चौर श्रश्विनीकुमार अङ्गिरस्‌ श्रि. प्राणाय नमो यस्य सवंमिढं चरो दाक्षायण दिरण्य वरुण की प्रश्रि गौ परेवेति-चरेवेति झुनःशेप पु ्लौर मनुष्य पाप्मा वे वृत्र प्रष्ठ १९९ १३ २९१ ३४ ३८ ५१ ५६ ६२ ७१ ८१ ९२ ९ १०४ १११ ११९ र्ठ




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now