श्री जवाहिर - किरणावली | Shri Javahir Kiranavali

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Shri Javahir Kiranavali  by जवाहिरलाल जी महाराज - Jawahirlal Ji Maharaj
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
8 MB
कुल पृष्ठ :
374
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

जवाहिरलाल जी महाराज - Jawahirlal Ji Maharaj के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
|(१३)= (४ कि. ५ न्यायत ‹ : शषा कि पहले का ना चुका है, पेठ साव तदा न्याय-नीति मैं ही धनोपार्नन करते थे । यही कारण है कि श्रापका निनी नवन्‌“ ना उस्नल रहा दै, व्यावसायिक नीवन भी उतना ही उन्नछा है | आपने श्रपने भीवन की कच्ची उम्र में अर्थात्‌ १५. वर्ष की श्रा मे व्यापार करना श्रारम्म किया था श्रौर लगातार कव वाही वरे तक श्राप व्यापारो नीबन बिताया । इते दी पारकि जीवने, यह श्राय को वात दै करि किसी मौ वष भापको घाटा नहं उठाना पडा | वीवी सदी पे, भब सरे सतार $ बना एकक हो रहे हैं, किली भी देश की एक घटना कापो पपार के व्यवसाय पर प्रभाव पढ़े बिना नही रहता, , शौर नवकि व्यापार के प्रधान सूत्र विदेशियों के हाथों में रहते हैं, इतनी , ता के साथ चालीस वर्ष तक व्यापार करना क्या साधारण व्यक्तिव-ूते की बात है 1 निनदे इ सफलता के लिए असाधारण तिमा एतदो की श्रावस्यकता है । सेठ साइब न किसी मारक विद्यालय पेये शरीर न उन्न कमं कालेन के द्वार खठखटाये थे फिर भौ जन्मजात बुद्धिकौशरर के धल पर देसी शर्ाषारण सफ प्रात की थी ]इस व्यापारिक सफलता में नहा उनकी प्राकृतिक प्रतिमा का पमार दिखलाई पड़ता हे बहा उनकी नीति-गि्ठता मी कारणमूत । साधारण तौर पर्‌ यह-सममा नाता है करि नीप शरोर श्रनीति * का विचार अथवा धर्म-अषमे का खयाल घर्मस्थानकों की वत्तु हैं )




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :