शरत - साहित्य शेष प्रश्न | Sharat - Sahitya Shesh Prashn

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Sharat - Sahitya Shesh Prashn by धन्यकुमार जैन - Dhanyakumar Jain

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

धन्यकुमार जैन - Dhanyakumar Jain के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
दोष प्रश्न १९१हरेन्रने कहा, ¢ इट इज दरू मच । ” ( बहुत ज्यादती है । )अक्षयन जोरके साथ प्रतिवाद किया, “ननो, इट इज नट {° (नर्ही, नहीं है |)अविनाश बोल उठे; ” ओ हो--कर क्या रहे हो तुम लेग!अधयन किसी बातपर ध्यान ही नहीं दिया, बोले, “' आगंरेसे वे भी किसी दिन प्रोफेसर थे । उनके आझु बाबूको बतलाना चाहिए था कि केसे वह नौकरी छूटी । ”हरेन्द्रने कहा, “ अपनी इच्छासे छोड दी । पत्थरका कारबार करनेके लिए. । ”अक्षयने खण्डन किया; “ झूठी बात है | ”शिवनाथ चुपचाप भोजन कर रहा था, मानो इस सब वितण्डा-वादसे उसका कोई सम्बन्ध ही न हो । अब उसने मुँह उठाकर देखा और अत्यन्त स्वाभाविक भावते कहा, “' बात तो झूठी ही है । कारण, प्रोफेसरी अपनी इच्छासे नहीं छोडतों तो दूसरोकी यानी आप लेरगोकी इच्छसे छोडनी पडती । ओर सो ही हुञा । ”आगु बाबूने आश्चर्ये साथ पूछा, ५८ क्यो १”रिवनायने कहा, ^ शराव पीनेकी वजहसे ] °अक्षयने इस बातका प्रतिवाद किया; “ नहीं, शराब पीनेके कुसरपर नहीं, मतवाले दोनेके कुसूरसे । ”शिवनाथने कहा, “ जो दाराब पीता है वहीं तो कभी न कभी मतवाला होता है । जो नहीं होता, वह या तो झूठ बोलता है, या शराबके बदले पानी पीता है | ” कहकर वह हंसने ख्गा |अक्षय मरे क्रोधके कठोर हो उठा, बोख, “ निरलंजकी तरह आप हँसना चह तो दस सकते है, मगर इस कुसूरको हम लोग माफ नरह कर सकते ¦ ””रिवनाथने कहा, ^“ ऐसी बदनामी तो में आपकी करता नहीं कि आप माफ कर सकते हैं । इस सत्यकों मैं स्वीकार करता हूँ कि स्वेच्छासे मुझसे नौकरी छुडानेके लिए. आप लोगोंने स्वेच्छासे काफी परिश्रम किया था । ””अक्षयने कहा, “ तो आशा है कि और भी एक सत्य आप इसी तरह स्वीकार कर छेगे । आपको शायद साठूम नहीं कि हम लोग आपकी बहुत-सी बातें जानते हैं । ””दिवनाथने गरदन हिलाकर कहा, “ नदी, सुझे नहीं सालम । फिर भी इतना अवश्य जानता हूँ कि औरोके विषयमें आपका कुतूहल जैसा अपरिसीम




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :