नागफनी का देश | Nagfani Ka Desh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Nagfani Ka Desh by अमृत राय - Amrit Rai

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

अमृत राय - Amrit Rai के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
कैसे श्रजीच आदमी से पाला पड़ा | इसी जिन्दगी के लिए मैंचे हैडी को नाराज किया था ? उनको झादमी की ज़्यादा पहचान थी । उन्होने तमी कहा था वेला तू ग़लती कर रही है। यह आदमी किसी काम का नहीं है। कुछ करेगा-घरेंगा नहीं | इसके संग तू सुखी नहीं रहेगी | एक बार फिर सोच ले...मगर उस वक़्त तो बेला पर पागलपन सवार था । उसे सोचने की फुर्सत कहाँ थी । मैंने कहा डैडी श्राप नहीं जानते ...मंगर डैडी जानते थे | झ्ाखिर न वद्दी जो उन्होंने कहा था । तजुर्वा बड़ी चीज़ है। किस काम की है मेरी जिन्दगी । क्या मिला सुक्के कौन सा सुख और तो श्र खर्च तक की तंगी होती है । पता नहीं सारा दिन कहाँ घूमते रहते हैं । दोपहर को खाना खाने की भी उन्हें फुरसत नहीं सिलती । कहने को सभी से उनकी राह-रस्म है । शहर के तमाम नामी-गरामी घनी-घोरी लोग इन्हें बुलाते हैं। श्र ये जाते हैं । सभी तो उनके अपने आदमी हैं। कौन है जिनके यहाँ वह नहीं जाते १ मगर कमाई वही ढाक के तीन पात । कमी तीन सौ घर में देते हैं. कमी साढ़ें तीन सौ । श्रौर समझते हैं क़िला जीत लिया | बड़ा ताज्जुब होता है उन्हें कि इतने में घर का खर्च नहीं चलता । कहते हैं तीन दही तो उ्ादमी हैं । मगर ज़रा वक़्त को भी तो देखिये । किस मुश्किल से मैं घर का खच॑ चलाती हूँ मेरा दिल जानता है । खाने- पहनने का साज-सिंगार का शौक किसके दिल में नहीं होता मगर सुसकसे कसम ले लो जो मैं एक कौड़ी झ्पने किसी शौक पर खर्च करती दोर्ें । सारी उमड़ों को एक सिरे से मैंने दफ़ना दिया है। न सुकके गहने का शौक्क है न कपड़े का न कहीं डे




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :