असहमत -संगम | Asahamat Sangam

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Asahamat Sangam by चम्पतराय जैन - Champataray Jain

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about चम्पतराय जैन - Champataray Jain

Add Infomation AboutChampataray Jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
न क क्र, इक दर 0, ५ ति, , ४ १९१ ११ [ कदी ति + की की क, 4 © छू /४ शक अ द} 4926 „^ ऊपर { २ ) इद ओंसतको उसी दद्‌ जोसत समय “ जामि कुदरती नतीजा एक श्मनुमव है लिखे अभ्यासों सदूघर्मी द्रा नीं पर= रथ का श्लकाते वह्‌ जो शूनीचर्ज्स भान कर्तव्य ` (तताललण) ` क उसी समय “जामि (स्वदेशी) कुद्रती मन्तक यह्‌ नतीजा एक प्रकारका पेन्द्रिय शान है कि जैसे आभाखसों सददघर्मी उदाहरणा रचा नदीं मानी पर साध्य ( ध्र) को दलभ्फाते वह जो के थूनीवर्स छानवीन उत्तेजना




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now