कुरुक्षेत्र | Kurukshetra

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : कुरुक्षेत्र  - Kurukshetra

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रामधारी सिंह 'दिनकर' ' (23 सितम्‍बर 1908- 24 अप्रैल 1974) हिन्दी के एक प्रमुख लेखक, कवि व निबन्धकार थे। वे आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं।

Read More About Ramdhari Singh Dinkar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
गे “हम वहाँ पर हैं, महाभारत जहाँ दीखता है स्वप्न श्रन्तःशुन्य-सा, जो घटित-सा तो कभी लगता, मगर, भर्थ जिसका झव न कोई याद है। “झा गये हम पार, तुम उस पार हो ; यह पराजय या कि जय किसकी हुई ? व्यंग्य, पश्चात्ताप, अन्तर्दाह का धन विजय-उपहार भोगो चेन से।” हषं का स्वर धूमता निस्सार-सा लड़खड़ाता मर रहा कुरुक्षेत्र में, प्रौ युधिष्ठिर सुन रहे भ्न्यक्त-सा एक रव मन का कि व्यापक शुन्य का। *खत से सिच कर समर की मेदिनी हो गयी है लाल नीचे कोस-भर, भोर ऊपर रक्त की खर धार में तैसे है भ्रंग रथ, गज, वाजि के। किन्तु, इस विध्वंस के उपरान्त भी शेष क्या है? व्यंग्य ही तो भाग्य का ? चाहता था प्राप्त मैं करना जिसे तत्त्व वह करगत हुमा या उड़ गया ? “सत्य ही तो, मुष्टिंगत करना जिसे चाहता था, दात्रुप्रों के साय ही उड़ गये वे तत्व, मेरे हाथ में ध्यंग्य, प्दचात्ताप केवल छोड़कर ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now