तारण जिनवाणी संग्रह | Taaran Jinvani Sangrah

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : तारण जिनवाणी संग्रह  - Taaran Jinvani Sangrah

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about फूलचन्द्र सिध्दान्त शास्त्री -Phoolchandra Sidhdant Shastri

Add Infomation AboutPhoolchandra Sidhdant Shastri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
{५1 ४ के ॐ कः .. कण पवार्य९--१ नोव पदा, २ सजीव पदाय, है पुम्र पदायं वापर पदार्य, ५ सास्त्रव पवां € यन्य पदार्य, ७ संवर प्रदान, ८ निभेरा पदार्थ ९ मोष पदार्थ ॥ के द्रव्य टन जीसद्वर्प, से पुदगरद्वाय, दे घसद्रच्य, ४ सघन द्रर्प, ५. फ्ालदट्रदप, ६ आपमनडाधस्य | 1 (न पलारितताय {--१ जोगन्तिफाय, २. सनोयारिसिवगय, 5 पर्माध्तिफाय, ४ दधर्मार्तिदपय, ५ लारादात्तिसाय 1 सम्पयत्च ६-१ सूप सम्यरयर्ण, २ दाह्ा सम्पपप, डे पेद रस्यपरद ¢ उपम सम्यपट, ५ शविः सन्यक्व, द युद्ध सम्पफ्ठय 1. १४ देव-पन्दना पां यष्ट प्राति उमे चयुष्ट्प पार) तृष्ट न ३ वः प कै. जग याम सोनपार अनिश विहार है 1 पाम पय पान सापें सम्प्र्यिपान, रानि शुद्ध दान सनस पन्य त्प १ । प्या म स थे 0 प्रर ध्म उ्प्टल स द सपम्‌ सप नेम प्रोत प्री स्वकमय मदा, भ [्ी के ई न ॐ मै ही दशा [ननन ददि वस्दना उमरी:




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now