धरती आकाश | Dharti Akash

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : धरती आकाश  - Dharti Akash

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about देवीदयाल चतुर्वेदी मस्त - Devidayal Chaturvedi Mast

Add Infomation AboutDevidayal Chaturvedi Mast

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
छठ हुए । तय इनका छाकार ऊँचा नहीं था । इनके दाँत श्तौर पंजे वहुत कमजोर थे । शत्रुओं से ये अपनी रक्ता नददीं कर सकते थे 1 परन्ठु उस समय तक या कि इनमें घुद्धि का पर्याप्त चिकास हो चुका था। बच ये 'पने श्गले पैरों का उपयोग सुजाओं | ... और द्ा्थों की तरदद फरने लगे. | - 2 थे । चढ़े मस्तिपफ ने अधिक चुद्धि और _स्थतन्य है.» दार्थों के द्वाय संसार - चिजय “पा का... श्ीगणेश मनुष्य का धार्मिक स्य फिया। घीरे- घीरे चद्द सारें संसार फा मालिक दो गया 1 प्रारम्भ फे इन प्राणियों की चहुत कम थानें में सावस ऐं । उत्तर-पश्थिम भारन पी शियालिक पदाद़ियों में ऐसे प्पनयरों फे दाँत मर सवड़े पाए यए एं, सिनकें इस समुप्य के पूछ सकते दैं । ये पुर्घतत चनसानुप थे । जर्मनी और साम्ट्रिया में भी चने ही दांत सौर लय पाएं गए हैं + हो मजुप्य के रूप में सुधार यावा में से थी पर्यत टैं, जो समय-समय लि




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now