धरती और आसमान | Dharti Aur Aasman

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : धरती और आसमान  - Dharti Aur Aasman

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about आचार्य चतुरसेन शास्त्री - Acharya Chatursen Shastri

Add Infomation AboutAcharya Chatursen Shastri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
पानवासी 1 कसकत्ते के एक उजाड-से भाग में एक बहुत विास मकान में. अली घाइ नडरवन्द थे । ठाऊ लगभग वही था. सकडों दासियां बादिया भी वेद्याएं भरी हुई थी पर वह लखनऊ का 'रग कहां ! साना खाने का वक्‍त हुभा भोर जब दस्तरखान पर साना चुना गया ते बादगाह ने घख-चस्कर फेक दिया । भगरज़ अफसर ने धवराकर पछा--सा में बया नुस्‍्स है ? जवाब दिया गया--नमक खराब है । नवाब कसा नमक खाते हैं * “एक मन का इसा रखबर उसपर पानी की घार छोडी जाती है। ज 'ुलते प्रुलते छोटा-सा टुकड़ा रह जाता है तब बादशाह के खाने में वहू नम इस्तमा्त होता है । अगरण़ भ्षिकारी मुस्कराता हुभा चला गया । कयो * भोह सब सोग के समझने के योग्य यह मद नही । ससी रस रग की दीवारों क भीतर भव सरकारी दफ्ठर खुल गए हैं, भी बह भमर कसरबाग मानों रडुए थी ठरह खा उस रसोलो रात की यात सिर धुन रहा है ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now