आविष्कार और आविष्कारक | Avishkar Aur Avishkark

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Avishkar Aur Avishkark by रामवृक्ष बेनीपुरी - Rambriksh Benipuri

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about रामवृक्ष बेनीपुरी - Rambriksh Benipuri

Add Infomation AboutRambriksh Benipuri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
~~~ ~ हि ५ गधि हि । ध एक साधारण मनुष्य के दिमाग में ऐसी रेल का जन्म होगा, जो सो पर्ष के अन्दर ही | ৯১ ৬৩ ^ ৬৩ ~ ৬৬ श्व ० संसार ॐ कोने-कोने में फैल जायगी ! सन्‌ १८२५ मेँ जव -पहले-पदल ईग्लेड में रेल | चली थी, किसीकों आशा भी नहीं थी कि इसका भविष्य इतना उष्ज्बल होगा। उस समय लोग हैंसी उड़ाते और तालियाँ पीठते थे; पर आज रेल ने इतनी उन्नति कर ली है कि कोयला-पानी के सिवा वह त्रिजली के सहारे भो चलने लगी है ! लुन, ते तो केवल एक लाइन पर चलने बाली रेल भी बना डाली है। ऐसी ही गाड़ी आयरलेंड के 'बेली-बुनियन' नामक स्थान में फी घंटा ८१ मील चलती है। इंगलड के मेचेस्टर-नगर से लीवरपुल-नगर तक ऐसी ही रेल चलाई जा रही है, जो ३० खालिप लोहे की बनो हुई बहुत द्वी मजबूत रैलगाड़ी.... | | मिनट में २४ मील का रास्ता तथ करेगी ! जमेनी के परशिया-पान्त में तो कुछ दूर तक ॥ झूलती या लटकती हुई रेल भी चलने लगी है | उसमें गाड़ी के ऊपर पहिये लगे होते ই না ... भला ऐसी दशा में कौन कह सकता है कि रेल की उन्नति अभी और कहाँ तक होगी १ जंगल-पहाड़ छान डाले गये, नदी-नाले बाँध दिये गये ! बस, डर सिर्फ टक्कर का | है। वह भी हल हुआ चाहता है । पेंसिलवेनिया में खालिस लोहे की रेलगाड़ी बन चुकी. है, जिसमें तनिक भी लकड़ी नहीं लगाई गई है। अब और कुछ दिनों मे इन सब तरह | की गाड़ियाँ का भचार दुनिया के सत्र देशों में हो जायगा। चलो, आग और टक्कर से भी जान बची ! । | ० मनुष्य की बुद्धि जो न करे सो थोड़ा है | | হিল্লা লাল वयव्य |~ হল ~ $ ~ न = ॐ ५ > 8 न (य य य एय ल




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now