मार्क्स से वर्तमान तक | Marks Se Vartman Tak

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : मार्क्स से वर्तमान तक  - Marks Se Vartman Tak

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about धर्म नारायण मिश्र - Dharm Narayan Mishr

Add Infomation AboutDharm Narayan Mishr

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
माक्तंवाद 8 प्रतिरिक्त-मूल्य सिदधान्ते (11९01 ০1 98:০]ঘ5 210০) বর তে ভ্ী জানা 8123 মামলার के वैज्ञानिक समाजवाद के रूप में सबसे बडी त्रुटि यह थी कि मार्क्स वा अध्ययन विष्पक्ष नहीं था। उसने जो भी तथ्य एकनत्रित किये, उनका जो विवेचन किया, उसका सुश्य उद्देश्य क्रान्ति द्वारा सर्वहारा-वर्भ की सत्ता की स्थापना करना था। इसके समर्शत में उसे जो तथ्य मिले उनका उसने प्रयोग किया तथा जो तथ्य उसके निप्फष के विपरीत जाते थे उतक्री अ्रवहेलना वी । इस प्रकार एक पक्षीय प्रध्ययन को पूर्णो विज्ञान कहना उपयुक्त नहीं होगा। झागे के पृष्ठों भे मायसंबादी सिद्धास्तो के प्रध्ययन से यह बात अच्छी तरह स्पष्ट हा जाती है । कारं मार्क्स तथा ऐन्जिल्स वैज्ञानिक समाजवाद के प्रमुझ प्रवक्ता है, किन्तु बुछ ऐसे भी समाजवादो हैं जो माक्स॑-ऐलन्जिल्स के विचारों के कुछ অং নী स्वीकार करते हैं. तथा कुछ को भ्रस्वीकार । किन्तु उन्हे भी वैज्ञानिक समाजवाद मा समर्धकः माना जाता है। इनमे वार्यं रोडवटंस ( [8] 1২০39৩105, 1805-1825 ) तथा फर्डीनेल्ड लाराल ( छ८1017900 1.95912, 1825-1864 ) बो नाम प्रमुय है। मावर्स ऐन्जिल्स तथा इनमें मतभेद इस बात पर है कि समाजवाद लाते के लिये तुरन्त क्या कार्यत्रम हो तथा रज्य के विषयमे वास्तव मे क्‍या हृष्टिपोण होना चाहिपे। वैज्ञानिक समाजवाद के पिपय मे इस्हेंने माससे-ऐम्जिल्स को मास्यताप्रो का लगभग समर्थन विया है हालाकि उनके क्यरणं एवं परिणाम बुछ भिन्न ही है 12 इन्द्वात्मक भोतिकवाद 10191598555) ১1515108152 पाले मास वी विचारधारा वा प्राधारभूत विदधान इन्दात्मक भौतिकवाद है। दृनदषा प्र्थ त्ंमम्मत विचार-विभर्ण है। किसो भी तथ्य बे वास्तविकता शो ज्ञान वी प्राप्ति तई-सम्मत विचार-विमर्श से ही सम्भव होती है। सामाजिक विधास-श्रम वा शान करने के लिये रावप्रयम इन्द्रात्मक सिद्धान्त को होगल ने प्रदण तिया था । इस सिद्धान्त হা মালালা है कि ऐतिहासिक घटना-भम कुछ निश्चित नियमी के प्रमुसार चलता है। इन्हीं नियमों के श्राधार पर सामाजिक परिवर्तनों को समय जा सकता है । हीगप ने सपाज को मतिमय तथा परिवर्तनशील चतलाते हुए विश्च-प्रात्मा (০0৫ ऽध) को उसका नियामक कारणं माना है। हीगल ने इ्नन्दात्मकता -২ শা 23, 0००,59 पे , + হয ০1 5০০0৭ ০৪2 ৮০ 11, ए 28१ 89 , 4535 0০9013৫5০৩1 15 (८ ইত 5০০1155 ঢ 5758 ৯ से सप्यस्ध भे देखिये. 21४3०, ८३ फ , 59000: নি 91000 कस प 1०9, 7. 21113. २4, (ला, (तस्ता, 9১38 पल ऽज्ञा য1516005 ঘা 332 » 334, 343-44




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now