सिराज़ुद्दौला प्रथम खण्ड | Sirazudhaola Khand 1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Sirazudhaola Khand 1 by

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about नवाब सिराज़ुद्दौला

Add Infomation About

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
সী (5.৯ चथा বাহ । রর हर माद नी दन्‌ मधा, कदु सवा क्षो मासिक कर हि. पेन दीपे उमे तो कद चम नरह सकता 8 प्रा ध शा पद ष्वा दाय किया अप! (৫ इस्काएं प्री पृरी करती हामी! भोय शिवी रुसी कामनाए पूरी करनी हॉगी-रुघावर दिये हुए मागिक पेतवक्रा हुगता मे हो ज्ञाय तब तक कुछ काम नहीं ঘদয়া। किशु वह पैन किस अकार साया जाय, सिसेशकी दर समद यपौ पिमः দল দুই! परमक [সয আ जो आम्रीद प्रमोद्ठ करता है, मिप्का ष निप माना रीका ई प अययदाताई भभे ष प्रय चममधके हो देखता है। चाह शिम ताद ही यह तो पमे प्या माक) ष फक पपा । भव तक বঘু है तव মগ মাহ है जब मधु हों रहगा सह आमर भों लड़ श्राया। नपाद दिये दष पोमिक्त सेवने धामोट्‌ एमाएका पश चलता १ दप प्राप मोग मिगुोनाक्ञो भर स 1111 1 1




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now