केनोपनिषद | Kenopanishad

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Kenopanishad by हंसराज बच्छराज नाहटा - Hansraj Bachchharaj Nahata

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about हंसराज बच्छराज नाहटा - Hansraj Bachchharaj Nahata

Add Infomation AboutHansraj Bachchharaj Nahata

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
खंण्ड १ ] शाडरसाप्याथ्थ ७. पदु-माष्य निर्चेदमायान्नास्त्यङतः कृतेन । - तडिज्ञानाथ स गरुमेवाभिगच्छेत्‌ समित्पाणिः भोत्रियं जक्षनिष्ठम्‌ (मु०उ० १1२1 १२) इत्याद्याथवणे च । एवं दि विरक्त प्रत्यगात्म- निदृत्ाक्ानस्य विषयं विज्ञानं श्रोतु [৬ मन्तुं विज्ञातुं च नमू सामथ्यशुपपचते, नान्यथा 1 एतस्माच प्रत्यगारम्‌- लोकोकी परीक्षा कर वैराग्यको प्राप्त हो जाय, क्योकि कृत (कर्म) के द्वारा अकृत ( नित्यखरूप मोक्ष ) प्राप्त नही हो सकता। उसका विशेष ज्ञान ग्राप्त करनेके लिये तो उस ( जिज्ञा ) को हाथमे समिधा टेकर्‌ श्रोत्रिय ओर ब्रह्मनिष्ठ युस्के ही पास जाना चाहिये” इत्यादि । केवर इस प्रकारसे ही विरक्त पुरुपको प्रत्यगात्मविपयक्र विज्ञानके श्रवण, मनन ओर्‌ साक्षात्कारकी क्षमता हो सकती है, और किसी तरह नही । इस प्रत्यगात्माके ' बाक्य-भ्राष्य ९. भवन्ति तन्निवेतेकाश्रयप्राण- सस्कारके ही कारण होते है। “देवयाजी विज्ञानसहिितानि । “देबयाजी | श्रेष्ठ है या आत्मयाजी” इस प्रकार श्रेयानात्मयाजी बा” इत्युपक्र- स्यात्मयाजी तु करोति “इदूं मेडनेनाहुं संस्क्रियते इति'? संस्फा- रा्थमेव कर्माणीति वाजखनेयक्े। “महायज्ञे यज्ञेश्च च्ाह्मीय॑ क्रियते तनुः (मन्नु० २। २८) “यज्ञो दानं तपश्च पावनानि मनीषिणाम्‌” (गीता १८ । ५) इत्यादि स्मुतेश्च 1 प्राणादिविज्ञानं च केव कर्म आरम्म करके वाजसनेय श्रुतिमे कहा है कि आत्मयाजी अपने सत्कारे लिये ही यह समझकर कर्म करता है कि “इससे मेरे इस अगका सस्कार होगा ?? | “यह दरीर महायज्ञ और यज्ञोद्वारा ब्रह्मज्नानकी ग्राप्तिके योग्य किया जाता है।”? “यज्ञ, दान और तप- ये विद्धानोको पवित्र करनेवाले ही है”” इत्यादि स्मृतियोसे मी यही बात सिद्ध होती है 1 अकेला या कर्मके साथ मिका हुआ ससुतं चा सकामस्य प्राणात्म- | होनेपर भी प्राणादि विज्ञान सकाम




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now