हुकुमचंद अभिनंदन ग्रंथ | Hukamchand Abhinanadan Granth

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : हुकुमचंद अभिनंदन ग्रंथ  - Hukamchand Abhinanadan Granth

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about सुमेरचन्द्र दिवाकर - Sumeruchandra Divakar

Add Infomation AboutSumeruchandra Divakar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
चित्र सूची सेठ साहब विरक्त जीवन की साधना (হীন) सन्‌ १६२४ में श्रतणवेलगोला में गोसटस्वासी के सहामस्तकाभिपेक के समय दर्शन करते हुये मेंसूर नरेश आदि सन्‌ १६४० में श्रवणशवेलगोना में महामस्तकाभिषेक के समय सेठ साहब, मेसूर नरेश साथ लीकर बिम्ब प्रतिप्दा पर मानपत्र के उत्तर से भाषण देते हुये सेठ साहब जयपुर शास्त्र भढार के सचित्र यशोधर चरित्र का एक द्श्य ज्यपुर मे विधीचन्दर्जी गगवाल के मन्दिर का संगसरमर का एक कलापूर्ण स्तम्भ चिन्तौटगद का कीनिं स्तम्भ सर सेठ साहब (र गीन) सेठानी साहिबा (रंगीन) मेयासाहव राजकुमारमिदजी की वाद्याचस्या सेठ साहब भेयासाहब ओर ताराबाई के साथ सेठ साहब, भेयासाहब राजकुमारलिंदजी व वालमडली वस्बई वाले बाबा के शेर के साथ सेठ साइन अजमेर के रा० व० सेठ टीकसचन्दजी , कुबर भागचन्दजी ओर कु वर दुलीचन्दजी सेठ साहब के इन्द्रभवनन का श्रखाढा कारन प्रिंस आफ इण्डिया सेठ हुकमचन्दजी सद्र से उपरास यत्ति इन्दौर वैक के শাশ্বত কনা লগ सेठ माहव क इन्द्रभचन की निजी गोशाला ग्रामोद्योग खादी प्रदर्शनी का सनू १६३४ से महात्मा गाघी ने उद्घाटन किया था गाधीजी का पतन्न गांधीजी इन्द्रभवन्त मु खाना खाते हु गांधीजी कल्याणभवन म कस्तूरवा का इन्द्रुभचन म स्वागत उयोतिष सम्मेलन म महामना माल्लवीयजी के साय इन्दौर धारा सभा 4१६ १६ 2९ २१ 4. शेर २२ ৬৭ ४९ ५६ 3७ उप ८३ ८४ ८१ ८६ ७३ ७४ ७५ ७६ ७9 ७६




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now