हुकुमचंद अभिनंदन ग्रंथ | Hukamchand Abhinanadan Granth

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Hukamchand Abhinanadan Granth by सुमेरचन्द्र दिवाकर - Sumeruchandra Divakar

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

सुमेरचन्द्र दिवाकर - Sumeruchandra Divakar के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
चित्र सूची सेठ साहब विरक्त जीवन की साधना (হীন) सन्‌ १६२४ में श्रतणवेलगोला में गोसटस्वासी के सहामस्तकाभिपेक के समय दर्शन करते हुये मेंसूर नरेश आदि सन्‌ १६४० में श्रवणशवेलगोना में महामस्तकाभिषेक के समय सेठ साहब, मेसूर नरेश साथलीकर बिम्ब प्रतिप्दा पर मानपत्र के उत्तर से भाषण देते हुये सेठ साहबजयपुर शास्त्र भढार के सचित्र यशोधर चरित्र का एक द्श्यज्यपुर मे विधीचन्दर्जी गगवाल के मन्दिर का संगसरमर का एक कलापूर्ण स्तम्भ चिन्तौटगद का कीनिं स्तम्भसर सेठ साहब (र गीन)सेठानी साहिबा (रंगीन)मेयासाहव राजकुमारमिदजी की वाद्याचस्यासेठ साहब भेयासाहब ओर ताराबाई के साथसेठ साहब, भेयासाहब राजकुमारलिंदजी व वालमडली वस्बई वाले बाबा के शेर के साथ सेठ साइन अजमेर के रा० व० सेठ टीकसचन्दजी ,कुबर भागचन्दजी ओर कु वर दुलीचन्दजीसेठ साहब के इन्द्रभवनन का श्रखाढाकारन प्रिंस आफ इण्डिया सेठ हुकमचन्दजीसद्र से उपरास यत्तिइन्दौर वैक के শাশ্বত কনা লগसेठ माहव क इन्द्रभचन की निजी गोशालाग्रामोद्योग खादी प्रदर्शनी का सनू १६३४ से महात्मा गाघी ने उद्घाटन किया था गाधीजी का पतन्नगांधीजी इन्द्रभवन्त मु खाना खाते हुगांधीजी कल्याणभवन मकस्तूरवा का इन्द्रुभचन म स्वागतउयोतिष सम्मेलन म महामना माल्लवीयजी के सायइन्दौर धारा सभा4१६१६ 2९ २१ 4. शेर २२৬৭ ४९ ५६3७ उप ८३ ८४ ८१ ८६ ७३ ७४ ७५ ७६७9७६




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :