51 विज्ञान मॉडल | 51 vigyan Model

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : 51 विज्ञान मॉडल  - 51 vigyan Model

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्यामसुंदर शर्मा - Shyamsundar Sharma

Add Infomation AboutShyamsundar Sharma

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
तीन रंगों का फव्वारा तीन रंगों का फव्वारा--जो पहले लाल रंग का होता है, फिर सफेद रंग का हो जाता है और अंत में उसका रंग बदलकर नीला हो जाता है--बनाने के लिए तुम्हें निम्न वस्तुएँ चाहिए-- चौड़े मुँह की रंगहीन काँच की एक साफ बोतल, रबर का एक ऐसा स्टॉपर जो बोतल के मुँह पर टाइट फिट हो सके, लगभग आधा मीटर लंबी रबर की नली, लगभग आधा मीटर लंबी 0.5 से.मी. व्यास की काँच की नली, एक मेडीसन ड्रॉपर (लगभग 15 से.मी. लंबा), चार गिलास तथा दो-दो ग्राम बेरियम क्लोराइड, सोडियम सायलीसिलेट, सोडियम फैरोसायनाइड और फैरिक अमोनियम सल्फेट। यह सब सामग्री एवं रसायन तुम्हें कैमिस्ट की दुकान, जो तुम्हारे स्कूल की प्रयोगशाला को सामान सप्लाई करती है, से मिल जाएँगे। पहले रबर के स्टॉपर में दो छेद कर लो | एक छेद में ड्रॉपर फँसा दो और दूसरे में काँच की नली (चित्र-1 देखो) । अब एक गिलास में पानी भरकर उसमें फैरिक अमोनियम सल्फेट की थोड़ी सी मात्रा घोल लो । गिलास पर 1 अंक लगाकर अलग रख दो दूसरे गिलास पर अंक 2 डालकर उसमें बीस बूँद पानी लेकर थोड़ा सोडियम सायलीसिलेट घोल लो। 3 नंबर के गिलास में बीस बूँद पानी में बेरियम क्लोराइड और गिलास नंबर 4 में बीस बूँद पानी में थोड़ा सा सोडियम फैरोसायनाइड घोल लो। काँच की बोतल को पानी से आधा भरकर उसमें थोड़ा सा फैरिक अमोनियम सल्फेट घोल लो। इसके बाद बोतल के मुँह पर स्टॉपर लगाकर उसे चित्र-2 में दिखाई गई स्थिति में उलटी लटका दो । जैसाकि तुम चित्र में देख रहे हो, रबर की नली का एक सिरा ड्रॉपर के निचले भाग से जुड़ा हुआ है, जबकि दूसरा सिरा गिलास नंबर 1 के घोल--फैरिक अमोनियम सल्फेट के | 51 विज्ञान मॉडल 13 दिल्‍ली मं रेश में हो त्र में शो नेखन | व क'विज्ञा औद्योगिट [नि मासिव की विषय काओं क वृश्व हिंद पर “हिंदी प्रकाशन आकाश :| ट्रॉनिकी '




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now