स्वर्ण - विहान् | Swarna - Vihan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Swarna - Vihan by प्रेमी - Premi

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

प्रेमी - Premi के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
पहली झलकপাতাकहाँ बेच हम पा सकती है, धघनवैभव से दीन ? हुए भूख से तड़पन्तड़प वालक निद्रा से लीन ॥ गये पिताजी मजदूरी को उठकर प्रात काल । इधर जननि का देख रहे दो केसा आकुल हाल हम है, कृषक जगत का जिनपर रहता है आधार । अन्धकार-सा कंगाली ने े म्या वहाँ विस्तार ॥ -मोहन- दृश्य यहाँ का देख करुणतम भूले हम अभिमान । जनि कया मानस मे बरबस उठता दहै तूफान । दु




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :