दीपमालिका विधान | Deepamalika Vidhan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Deepamalika Vidhan by ब्रह्मचारी सीतलप्रसाद जी - Brahmchari Seetalprasad Ji

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

ब्रह्मचारी सीतलप्रसाद जी - Brahmchari Seetalprasad Ji के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
१७ममकाम मिटायो, शील बढ़ायो॥ तीर्येकर० ॥| सो० ॥ ४ ॥ ^ ` ॐ ह श्री जिनमुखोश्व सरखती देव्ये षं निवेपामीति स्वाहा ॥ पुष्पम्‌ ॥८१ द) पकवान व॒नाया! बहु धरतलाया, सवे विधि भाया, पिषटमहा। पूजू, रथ थुति गा, ग्ीति वदा, शुषा नशा, है खहा ॥ বাং | सो० ॥ ५॥3 हीं श्री जिनमुखोझ्व सरखती देन्य नैवेवं नि्ैपापीति साहा ॥ नेवेधम्‌॥ (तवच दवै) करि दीपकन्योते, तमक्षय होत॑, ज्योति उदयो, ঘুমাই আর तुमहो परकाशक, भरमबविनाशक, हम घट भासक ज्ञानवढ़े ॥ ॥ तीर्थकर ० ॥ सो० ॥ ६॥ॐ हीं शरीजिनयुसोद सरखती देव्ये दीपम्‌ नि्वेपामीति साहा ॥ दीपम्‌ ॥( वप ऋ ›शुभगंध दर्शोकर, पावकर्मे घर, धृषमनोहर खेबत हैं | सब पाप जला, पुण्य कमा, दास कहाँ सेवते ॥ तीर्थकर” 1 सो० ॥ ৩)3* हीं श्री जिनमुखोजव सरस्वती देव्ये धृपम्‌ निर्वपामीति खाहा ॥ भूपम्‌ ॥ (হু भगं अर)बादाम छुद्दारी, लौंग सुपारी; श्रीफठ भारी ल्यावत हैं। मन पांछितदाता, मेंट असाता, तुमगुनमाता गावत हैं ॥ ॥ तीर्थकर० ॥ सो० ॥ ८ ॥




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :