श्री भगवद्गीता | Sri Bhagwatgita

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sri Bhagwatgita  by हरिवंश लाल लूथरा - Harivansh Lal Loothra

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

हरिवंश लाल लूथरा - Harivansh Lal Loothra के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
ॐ अध्याय १ अः १३किनो राज्येन गोविन्द कि भोगेजीवितेन वा ३२ येषाम्रये काङ्क्षितं नो राल्यं भोगाः सुखानिच । त इमेऽवस््थितायुद्धभा णांस्त्यक्त्वाधनानिच ३३३ श्राचाय्यौः पितरः एुजास्तयेव च पिवामः । मातुलाः श्वशसाः पौनाः स्यालाः सम्वरिथनस्तथा ३८ ॥|हैं कृष्ण महाराज ‹ य॒द्धमे विजयच्छेभी काक्षा नहीं ओर न राज्य सखकी कि राज्य ओर भोग लें हमको क्या करना और विना स्वजन प्राण रखकेमी च्या करना ह ३२ ॥जिनके अत्ये राज्य भोग ओर सखकी हम कांक्षा करते हैं वेही लोग युद्धमें प्राण ओर घन त्यागरर खड इहं ३३२ ॥ये सब आचाय्ये ओर चचेरेभाई पत्र पिता- স্ব সালা अज्ञुर पोन्न साला और सम्बन्धी छाग ছা ৬11




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :