रविन्द्र-साहित्य भाग - 8 | Ravindra - Sahitya Bhag - 8

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : रविन्द्र-साहित्य भाग - 8 - Ravindra - Sahitya Bhag - 8

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about धन्यकुमार जैन 'सुधेश '-Dhanyakumar Jain 'Sudhesh'

Add Infomation AboutDhanyakumar JainSudhesh'

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
अभिसार : कविता क्या हानि, यही होने दो अब, होओ न विसुख, हे देवि सदयः. सम उर-नभमें हो जागरूक तव देह-हीन नव-ज्योति-निर्चय-। छाया कल्ङ्कुकी डारेगे उसपर न नयन वासना-मलिन, तमसावृत उरको नीखोत्र होगा उपरू्ध सदा सब दिन । तुमसे निज देव निहारूँगा, तुममे हेरिको पचानूगाः आलोक तुम्दीसे पाञगा, अपटक अनन्त निशि जागूँगा। आखिसार (बोधिसत्वावदान-कल्पलता) संन्‍्यासी उपगुप्त एक बार सथुरा नगरीके ভন पग्राचीर - तले थे सुप्त , बुके दीप, खा व्यजन पवनके, रुद्ध हार थे पोर - भवनके, सघन गगन-पटमे सावनके नेश तारकाएँ थीं छुप्त। किसके नूपुर-शिक्षित पदयुग सदसा बजे वक्ष॒मे आज चौंक चकित संन्यासी जगे, स्वप्र - जार पलकोंसे भागे, क्षमा ~ मञ्जु नयमोके अगे रूढ़ दीप था रहा विराज)




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now