भिक्खु दृष्टान्त | Bhikshu Drastant

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : भिक्खु दृष्टान्त - Bhikshu Drastant

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्रीमद् जयाचार्य - Shrimad Jayacharya

Add Infomation AboutShrimad Jayacharya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
दर धर शा ् के ्द हू रु रे है ही फ ७१ च्प छह बने पद था दे साषु रो बताया सू केइ निला थाने तिस पर साइुकार दिदास्पा रो इस रद सावधदान में मारे मौन है ठिप उपर शी बी गो इ्टाम्त रद मिभ्र सदा एपर रे माम रो इास्त रद म्हें कद कष्ो घागक म्हारे बासते कीजो दिग उपर री समाई ब्याह रो शीरे बमाइं रो इ्टान्त २६ थारा बचावथा रहा मारणा छोड़ो र्ध दिषशा पांचमों धारो छे सो पूरो साथपथणो ते पते लिन उपर तेला रो इृष्टान्त २७ ए दोप शगाब तोड़ प्रापा बिचे तो भ्राछा ई पू कड़े उपर तेखा महि पाषी रोटी शाग रो इट्ाम्त इय पागक उपर शुनों तो दौस है. रद राग मिप्पाठ रुप करदो ते करशा इ्रात सू दटे रद 'माचार्य पददी प्राणी तो कटित ई सूरदास री भाडे तो भरकाब तह रद 'पावक साथ ससाव री संका मिट्पा बिना बंपना कर सही ८ कई सावददान में पृष्प बह लिए उपर सतलंदिया महल मूं पइण रो इष्टास्त रद पति कर दिलाने जद दूजा पिल माने पौम भामो दीसे छ रू जोड़ी हो जुपती मिमी साच थोस है दे अपार पंगून रा अटका बास्ते स्ारों साधप्ा सह दे माने धर्मों ६ रस तू दि पौचमों भारो है पूछो सापपयों पते सष्टी लिल पर साहुकार दिंवास्या रो इष्टान्त पूने स्द्धा लेसू बडे नि पर पत्र बहसी सूसती हृवों तो पाई देसूं रो कर बुगुरां मूं हेत ठेह पर मेरां हो इट्टाला दर समादा हो जादो पिच रण शो क्यों बराता देर है इसी करामात हु ठो यू जाब उचारो मत पंत करा छा निनसू बढ़े छ 3६ घाज पए इसी बस्ती बीम्दो मति श्ज




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now