श्री स्वामी रामतीर्थ भाग - ६ | Shree Swami Ramtirth Bhag - 6

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Shree Swami Ramtirth Bhag - 6  by स्वामी रामतीर्थ - Swami Ramtirth
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 9.25 MB
कुल पृष्ठ : 131
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

स्वामी रामतीर्थ - Swami Ramtirth

स्वामी रामतीर्थ - Swami Ramtirth के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
द्ं स्वामी रामतीथ डंक मारने के बाद मर जाती दे । इस प्रकार वहां प्रेरित हे जा झपने डंक-प्रदार में झपना सम्पूर्ण जीवन भर दूता दते यही पूर्ण रहस्य है । यह नददीं हो सकता कि पक दी द्मय में तुम अभिनिवश में भी दो झार भोग भी करा । कसा वस्तु का भोगने को चे्टा करते दा तुम मरणए म नदा रद ज्ञात । जब तुम प्रेरणा में दोगे तब दूसरे लुम्द मोग करंगे संसार तुम्दे भोग. करेगा । परन्तु तुम स्वयं एक दो साथ ग्रेरणा युक्क ओर .मोग करने वाले-दोना ना दा सकत लुम भोगी तो न .होगे परन्तु झार. शो झुठछ . दाग स्वय सुख दोगे । पतंग दीपक की को में जल मरता दे ओर तंब अपनों चेमं प्रमाणित करता दे । साघारण पाखी आर पतिंगे में भेद कियें जाने के लिये यदद झावश्यकता दोती दे कि पर्तिगा दी पक से दग्ध दोकर सिद्ध करदे कि वह पाखरी पतंग दे । इसी तरद प्रेरणा युक्क मजुष्य ठोक प्रेरणा युक्क मजुष्य समझा जान के लिये उसकी प्रेरणा शह्ति प्रमाणित श्ौर प्रगट होने के लिये यह श्रावश्यक दे कि चढ़ मनुष्य योंगी हो । भय से परे दुर दुर वद्द जाता दे ससार के लिये सब तरह से मस्तक द्ोता हे । जीवित प्रछति को छोड़ कर श्ौर कहीं से कभी कोइ मददान भ्रेघावी 26०08 प्रेरणा नहीं प्राप्त कर सका | प्ररुति से एक उपमा लेकर इसका दशान्त दिया जायगा । पानी इस ऐ्रायवा करों जीवन प्रदान करता डे | प्रकाश के साथ पानी ही इस संसार में सब प्रकार की उपजो का कारण होता है । ठुम्दारीं खेती पानी से पकती हैं पानी इश्वर का बड़ा भारी प्रसाद हें। इसे देश में लोग वर्षा को नदीं पसन्द करते । परन्तु




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :