पथ के प्रदीप | Path Ke Pradeep

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : पथ के प्रदीप  - Path Ke Pradeep

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about भद्रगुप्त - Bhadra Gupta

Add Infomation AboutBhadra Gupta

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
[ के. |] ख ही तो दृष्टि देता है! तू दुखों से क्यो डरता है । आज जो तेरे पास विकसित दृष्टि है, दुखो की देन है | दु खो से प्यार केर ` जीवन तेरा आनन्द- मय वन जायगा ! दु.खोसेहष्टि प्राप्त करने का प्रयत्न कर! | ६ ] চদা की प्रवता का रुदन करने के बजाय परमात्मा की अनन्त शक्ति पर विश्वास करना श्रेष्ठ है1 उससे मन निर्भय बनता है।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now