रश्मि | rashmi

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : रश्मि - rashmi

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about महादेवी वर्मा - Mahadevi Verma

Add Infomation AboutMahadevi Verma

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
रश्मि गीत क्योह्न तारों को उलकाते? अनजाने हो प्रणो में क्‍यों द्रा आ कर फिर जाति? पत्न में रायों को मंकृत कर, फिर विराय का अस्फुट स्वर मर, मैरी लघु जीवन-वीणा पर क्या यह अरुफुट गाति? लय मे मेय चिर करुणा-पन, कम्पन में सपनों का स्पन्दन, गीतों में भर चिर सुख चिर दुख कण करण में बिखराते | मेरे शैशव के मधु में घुल मेरे यौवन के मद्‌ मे दुल मेरे आंसू स्मित में हिलमिल मेरे क्‍यों न कहते




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now