भगवान महावीर और उनका उपदेश | Bhagwan Mahavir Or Unka Updesh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : भगवान महावीर और उनका उपदेश - Bhagwan Mahavir Or Unka Updesh

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about कामता प्रसाद जैन - Kamta Prasad Jain

Add Infomation AboutKamta Prasad Jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
চা नमः सिद्धेम्यः । भगवान्‌ महावीर चि उनका उपदेश । “बहुगुणसंपद्सऋर्ल परमतमपि सधुरवचनविन्यासकलमस । নযলনতনবঅন্ধভ तव देव ! मतं समन्तभद्व॑ सकलम ॥* --इदत्स्वयंभूस्तोश्र अर्थातू--“स्वैक्षत्य, चीतरागत्वादिक जो बहुगुण तठद्गप सम्पत्ति उससे न्‍्यून, तथा मधुए चचनों की रचना खे युक्त मनेक्ष, ऐसा पर का मत है, तथा आपका मत्त सम्यक्‌ भकार से भव्य भाणियों के! कल्याण का कर्ता हे और नैगमादि नयों का जो भंग ( स्यादस्तीत्यादि भेद्‌ ) तद्ग॒प जे कर्शभूषण उसके लानेवाला है, अर्थात्‌ नैगमादि नय था सप्तसंगों सहित है।?” विक्रम की दूसरी शताब्दी में देनेवाले श्रीमहूगवन्‌ समन्त- भद्राचाय ने भगवान्‌ महानीरजी फे उपदेश সাধন और के सम्बन्ध मं अवश्य दी उषयुक्तरीलया उष- विपयमरवेश। यक्त शब्द्‌ कदे दँ । उन भगवत्‌तुस्य সানা ने किस प्रकार यह शब्द्‌ कटे इसकी परीक्षा करना माने! अपनी अश्रद्धा प्रकट करना है, अथवा 'सूय्ये के ' दीपक दिखानेवतः चेष्ठा करना है। उन शानशुणगंसीर गुरुचय्य के उक्त शब्द ही अपने महत्त्व के स्वय प्रकट कर रहे हैं । ता




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now