उड़ीसा में जैन धर्म | Udisa Men Jain Dharm

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : उड़ीसा में जैन धर्म - Udisa Men Jain Dharm

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about कामता प्रसाद जैन - Kamta Prasad Jain

Add Infomation AboutKamta Prasad Jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
एप पङ फाफाएड 18 1८6९००४6 &० 2. 00006 €809708 116 0095९ ९००68 ग 1४ 5 एषण्ल€ 08०8768 [णा 0 00ला' दशद्टनछ8, 6. @8्रहणापति, 8 पा1807080871870, पतप पप ©०१, ०7 118 7070768 07 त९एपप्+, ० ९० र€त, ०७ 1706976 ४0 0 पा०४० 16 1906 इण], काएते 1; 81006 18 01760४1 &०५ ०6668887} 76800081 {07 ४४९४ 1४ ००68 न एयावाणी रौर ऋष्यश्डग वेबिलोन कं प्राचीन इरेक राज्यमेंजो इयावाणीथे श्रोर भारतम अ्रगदेशके जो ऋषटष्यण्यू ग थे,इन दोनोकं उपाख्यानोका उल्लेख जरूरी है । इन दोनो उपाख्यानोमें विद्रोहके झ्रादिम जैनोका निद किया गया है इसतृष्णा-त्याग तथा इन्द्रियसयम मे इनके लोरोत्तर आध्यात्मिक श्रौर चारीरिक वलके प्रकाद्य की वात इन उपाष्नो से मिलती है । ये दोनो रहते मे बनमें, खति थे फल पल, पीते थे भरने का पानी भ्रौर बसते थे पञ्च पक्षियों के साथ, दोनो उपाख्यानो मे है कि स्थानीय राजाओं ने इन्हें सुन्दरो के लोभमें भुलाकर श्रपते शहरमें लाकर असाध्यसाघन क्रियाया । मारतके ऋष्य्युग का उपाख्यान इष इथावागो (कुछ लोगो ने पठा है 'एकिडोः) के उपाख्यान से मिलना जलता है । फर्क यह है कि ऋष्यन्ड ग॒ “उपाख्यान पुराप्रा-परम्परा में उपलब्ध है, लेकिन 'इयावाणी.-.उपास्पान श्रत्यत प्राचीन लेख में मिलता है। उस हिसाव से यह आजसे ५००० साल से अधिक पुराने जमाने की बात है । यह उस जमाने के सुमेर देशके इरेक देशकी वात है । थेरपुत्त < दाफ्यमुनि बुद्धके धर्मका बौद्धघ में मे 'सघो” का विकास उ()पणाए९8 01 एउउयावद्ण उप छक जण्डणम््वन्प्म कम्पय ये प्रछुणा घप्तेछा छ) ऐछापा, 2९ ८44, नप्र




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now