गुरु और माता पिता भक्त बालक | Guru And Mata Pita Bakht Balk

Book Image : गुरु और माता पिता भक्त बालक  - Guru And Mata Pita Bakht Balk

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about हनुमान प्रसाद पोद्दार - Hanuman Prasad Poddar

Add Infomation AboutHanuman Prasad Poddar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
गुरु और माता-पिताके भक्त बालक उनके आगे रखनेके लिये दोड़ पड़े । परंतु जूतेके पास दोनों साथ ही पहुँचे | इसलिये अब उनमें यह झगड़ा उठ खड़ा हुआ कि गुरसेवाका यह पुण्यकर्म कोन करे | अन्तमें दोनोंने यह निश्चय क्रिया कि दोनों आदमी एक-एक जूता उठाकर गुरुके चरणके अगे र्लं । एता दी किया गया । इस वातकी खबर खलीफाके कानोंमें पहुँची और उन्होंने शिक्षककों बुला भेजा । मार्मूने शिक्षकसे पूछा कि आज दुनियामें सबसे अधिक प्रतिष्ठित और पूज्य कौन है !” शिक्षकने कहा--शवसल्मानेकि खामी मार्मूंकी अपेक्षा अधिक प्रतिष्ठित और कोन हो सकता है ?” मार्मेने कहा--“नहीं, वह पुरुष है जिसका जूता सीधा करनेके लिये मुसल्मानोंके खामीके पुत्र परस्पर झगड़ते हैं !? शिक्षकने उत्तर दिया कि 'मल्ले अपने शाहजादोंको ऐसा करनेसे रोकनेकी इच्छा हुई; पर पीछे विचार हुआ कि मैं इनकी श्रद्धाकों क्यों रोक १! मामूने कहा--“आपने इनको रोका होता तो में बहुत ही नाराज होता। इस कामसे इनकी इज़त कुछ कम नहीं हुईं, बल्कि इससे इनकी कुलीनता और शिशचारका परिचय मिलता है । बादशाह, पिता ओर गुरुकी सेवा करनेसे प्रतिष्ठा बढ़ती है, घटती नहीं ।' ऐसा कहकर उन्होंने गुरुमक्तिके बदले लड़कोंको हजार- हजार दरहम पुरस्कार दिया ओर अध्यापकका कर्तव्य टीक-टीक पालन करनेके कारण शिक्षककों भी उतना ही इनाम दिया। न्नित টি ( २ )




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now