जगत - सेठ | Jagat - Seth

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Jagat - Seth by श्री पारसनाथ सिंह - Shree Paarasnath Singh

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्री पारसनाथ सिंह - Shree Paarasnath Singh

Add Infomation AboutShree Paarasnath Singh

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
हैं और लेखक फी समस्या हल हो सकी हैं तो कुछ मित्रों की उदारता से ही। ইনল कलकत्ते के श्री विनायक लाल खन्ना, श्री ज्योतिष चन्ध गुप्त और थी रमेश चन्द्र ठाकुर विशेष उल्लेखनीय हैं। राजस्थाव के लब्धप्रतिष्ठ विद्वान कीराम शर्म्ा, सस्ता-साहित्य-मंडल के श्री सातंड उपाध्याय और भारती-भंडार फे श्री वासुदेव उपाध्याय भी इस प्रयास में उसके सहायक हुए ह) पुस्तर के आरंम में हीरानन्द साह की कोठी का जो चित्र है चह रामस उनियल नामक चित्रकार ने १७९५ में तेयार किया था। उसका फोटो पदने के प्रसिद्ध कलाप्रेमी और प्राचीच वस्तुओं के संग्रहकर्ता सेठ भरी राधाकृष्ण जी जालाव के सौजन्य से प्राप्त हो सका है । इनका तथा अन्य सहापक मित्रों का लेखक बड़ा आमारी है ॥ छाती में सानवीव भीतकाश जी का परिवार एक गुरुकुल के समान रहा हूँ । स्वयं श्रीप्रक्षात जी वहां किसी समय इतिहास के अध्यापक ही नहीं, छात्रों के पयप्रदर्शश और सहायक भी रह चुके हैं। बड़े गुरुभाई के आरीर्व चन के लिए उन्हें धन्यवाद देना तो एक प्रकार की धृष्टता होगी, पर उन प्रोत्साहन से उसकी लेखबी को और भी बल मिलेगा, लेखक को यह आशा और विश्वास हैँ । पारसनाथ सिंह




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now