भारतीय लोकतंत्र के प्रतीक | Bharatiy Lokantantr Ke Pratik

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : भारतीय लोकतंत्र के प्रतीक - Bharatiy Lokantantr Ke Pratik

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about ज़ाकिर हुसैन - ZAKIR HUSSAIN

Add Infomation AboutZAKIR HUSSAIN

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
| दइाजदाओो में शान भादिर हुएत $ সিডি হট কী হাহ दिया, थो हे शाप वा द६ इदता ভাই हुए बह 1967 में-इ६- थे, “गाए মাং मेष पर टै प्र शदे गोद देश इरिराए है। इ्रशनमत्रों से बहा, धाव पह परिवार धौर शाप इश्छ धोर ये ধুর ধলা एप्स धी मोएएडी देखाई मे बहा, दान सारिर हयेन मे पम विक्तैष्ठणा दो बौवा-शदश प्रषहर्शा पेग ধা চৈ কী गरगे बड़ी रैरा हो है। मह दारइपरातै ইং জাতি অহ হাতি ই धरिध्य में दिध्दाय था धौर पद पीरन भर मनुष्य शो द्वि मे नरकाय काते ष्टे बहू दभी भी पर पौर प्रतिष्ठा हे पीछे सही মাই ধিক हे १२३४ ही इनईे दाग थाते रहे 17 थी देगा! से बहा, औिाएगर में एस्टे पत्वयाध्त पै एपिद धावाद पाता पा, पारजो हब बोराएए मैं रही? (কে भो शश इभी पुराए धाई उनहँने ऐश बी कद थे भु्त वे शोर । दा० दिए हुनेस में भूनोतिरयों दा शषा दुऱतापुर्रष धामना ভিলা) বাগ ইং খাতে बे महात दसएस्य के प्ररात होने ढी मोग्शाा घनगे बढ़गर हि में कही थी । दौर एए पर में उाहोंने देश ही महात शेशा बो 1 दर प्रषाममप्रों में घोढ़े बहा এত ঘছইি ঘমানতত লধিশ ঘ। ঘর আশা, নব, हुए ঈি भार ঈ চা गरोपरि गच्चे धारपीर पे । न्याम हिना থা তত লতা &, डा शर एवष (गम ये । संद पटवो भातो धंगर में छोड प्ररट १९३ हुए दियगा! राष्ट्रपति के महान शाप्टों शो धागे बढ़े दा प_ए र्दा । तेनो गनो, सोरमभाभ राग्ययभा, मै पतय समय, पोर ददादरठ ये द्द्‌ प्रततार ररीदाए दिया :-+ नोक (त्रयम एण राष्टीर तोड़ की पड़ी में, भारत के राष्ट्रपति शा० बाहिए हूुपेंस के धरगावदिद्ू विषय प्र थग्या हाक्िक दुग प्रष्ट करणी द पौर उन हेघमतिक, राष्ट्रीय एकजा, धर्मनिरपेश्ञता घौर मासप्र त्वा के ऊषे भादशों को प्ये बहाने वो प्रतिशा बरती है। मोमा हे पष्य, षी भीतम पडीदरेद्टो मे पनी परागति मे श्ट, आह दिद्ा, विलय, सर्च पे, समभाष भोर ष्ट्वा कै प्नीकये । उनको पाद्म ছু ঘ शप्दु को ऐगी शा उठानी पड़ी है थो मुशिस से प्रूरी होगी। महु द्वामि राजनीतिक शषेत्र ढो ही ही हुई है, बल्कि धोर सषेत्रों वो भी, विशेष कर शिक्षा जगत को हुई है।” ঘামী আমলীতিয द्णो डे नेतामों मे दिवंपत सेता को श्रद्धांजलि আবির আ। भद राष्टि रार रापाहस्नय्‌ मे कहा, वह महान व्पक्षित भौर अगुस विवायास्मी थे । बह प्रपती मेट्नत धौद यौग्पता फे बल पर इतने ऊपे पद पर पहुंचे थे। भारत है भूवपुर्व एवर्तेर प्रमएस भक्वपर्ती राजगोपाप्ताघारी मे पहा, “डा० जाहिर हुसैद भारत 11




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now