राजस्थान के इतिहास के स्रोत भाग - १ | Rajasthan Ke Itihas Ke Srot Bhag - 1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : ,
शेयर जरूर करें
Rajasthan Ke Itihas Ke Srot Bhag - 1  by डॉ गोपीनाथ शर्मा - Dr. Gopinath Sharma

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

डॉ गोपीनाथ शर्मा - Dr. Gopinath Sharma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
पुरातत्व सम्बन्धी सामग्री ६ उसके निकट ही गाड़ दिया जाता था श्रौर उसको मोती के हार ताम्वे का लटकन मूदुमाण्ड माँस झादि उपकरणों सहित दफनाया जाता था । ये स्थिति मृत्त निवर्तन के सम्चन्च में हमें श्रन्य देशों में भी प्रागं तिहासिक काल में मिलती है । खाद्य पदार्थ ग्रौर पानी हाथ के पास होते थे श्रौर मूर्तभाण्ड पीछे रखे जाते थे । तृतीय काल के एक कंकाल पर ईटों की दीवार भी यहाँ मिली है जो समाधि बनाने की चोतक हैं । मिट्टी के वतन ये उपकरण द्वितीय व तृतीय चरण की वागोर की सम्यता के प्रतीक हैं द्रत्तीय चरण के मिट्टी के वर्तनों के श्रवशेपों का रंग मर्टर्मला है श्रौर वे कुछ मोटे भ्रौर जल्दी टूटने वाले हैं । इनकी प्रचुरता इस वात का प्रमाण है कि यागोर निवाती कृपि का प्रयोग जान गया था । ये वतन शरावले तश्तरियों कटोरों लोटों यालियों तथा तंग मुंह के घड़ों और वोतलों के रूप में मिलते हैं । अरब मानव के खाद्य पदार्थों व संग्रह के उपकरणों में विविघता गई थी श्रौर सम्यता का विकास हो गया था । ये भाण्ड रेखा वाले तो होते थे परन्तु इनमें म्रलंकरण का श्रभाव था । ऊपर से लाल रंग इन पर शोभा के लिए लगा दिया जाता था परन्तु भीतर का भाग काला व कच्चा रहता था । थे भाण्ड हाथ से बनाये जाते थे । तृतीय चरण के भाण्ड पतले व टिकाऊ होते थे तथः इनको चाक से बनाया जाता था । इनमें रंग व रेखाएं तो होती थी परन्तु की प्रचुरता श्रव तक इनमें नहीं श्राने पाई थी । ाबूपण | बागोर सम्यतता में श्राभूपणों का प्रयोग प्रथम सम्यता के चरण से ही दिश्लाईड देता है । ये ग्राभूपरण मोतियों के रूप में ग्रधिक दिखाई देते हैं । हार तथा कान के लटकनों में मोतियों का प्रचुर प्रयोग होता था जो पाल्पदम 2४816 इच्द्रगोप तथा काँच के वनते थे । इनको वागे में पिरोकर पहिना जाता था । ताम्रपट भी हार के लटकन के काम करते थे जेसाकि कुछ यहाँ से प्राप्त उपकरणों से सिद्ध है । लाल व पीले गेरू के जो श्रनेक द्रुकड़े मिले हैं वे भी इस वात के साक्षी हैं कि वागोर निवासी झ्रलंकरण के लिए इन रंगों को काम में लाते हों । गृह के श्रवशेष वागोर संस्कृति के ययोतक कुछ घरों के घ्रवशेप भी हैं जो द्वितीय तथा तृतीय चरणा के काल के हैं । घरों को नदी के चट्टानों के पत्थरों को तोड़ कर बनाया जाता था । इन्हें चपटे श्रोर चौड़े दीवारों में लगाया जाता था । इनकें साथ नद्दी के गोल पत्थर भी लगाये जाते थे । घरों के फर्ण को पत्थरों को जमाकर समतल वना दिया जाता था । इन फर्शों पर छोटी-मोटी अनेक हृट्टियों के ट्रकड़े मिलते हैं जिनके साथ पत्यर के हृधोड़े भी देखे गये हैं । इससे प्रमाखित होता है कि यहाँ के निवासी इन




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :