योग एक चिंतन | Yog Ek Chintan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Yog Ek Chintan by श्रमण श्री फूलचन्द्र - Shraman Shree Foolchandra

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्रमण श्री फूलचन्द्र - Shraman Shree Foolchandra

Add Infomation AboutShraman Shree Foolchandra

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
' एते जाति-देश-काल-समयानवच्छिन्ना सार्वभीमा महाव्रतम्‌ कह कर अहिसा- ग्रादि को सावंभौम महात्रत कहा गया है और उन्हें सभी देशों सभी जातियो और सभी कालो ' के लिये आरा- धनोय कहा है । * नियम के श्रन्तर्गत शीर्च, सन्‍्तोष, तप, स्वाध्याय, ईरवर- प्रणिधान को लिया गया है | ३३ बे सूत्र मे हिसा के कृत, कारित अनमोदित रूप की चर्चा की गई है । इत्यादि 'समस्त वणन इस নাল को प्रमाणित करतो है कि पत्तजलि योग के क्षेत्र पे भगवान महावीर से तीन सी वेषे बाद उनकी शब्दावली और उनको घ्यान- प्रक्रिया से प्रभावित्त हुए और उत्होने उन्ही की साधना-पद्धति का आश्रय लेकर योग-दर्शन की रचना की । प्रस्तुत पुस्तक में उपाध्याय श्रमण श्री फूलचन्द्र जी महाराज ने बत्तीस योगो को जो क्रमबद्ध व्याख्या की है वह व्याख्या योग- दर्शन की गली में दुष्टिगोचर होती है, श्रत जो साधक योगी वनना चाहता है, उसके लिये श्रस्तुत पुस्तक का क्रमबद्ध स्वाध्याय उपयोगी होगा यह निश्चित ই । - ध्य{न-योग पतञ्जलि का योग-दर्शन ध्यानयोग का समग्र रूप है। ध्यान साधना के क्षेत्र का प्राण है। कोई भी साधक इसके बिमा साधना मार्ग पर सफलता प्राप्त नहीं कर सकता । विश्व मे जितने भी अध्यात्म का श्राधार लेकर चलने वाले सम्प्रदाय है, उनमे श्रनेक सैद्धान्तिक मत-भ्ेद हैं, किन्तु ध्यान मे कही किसी का कोई मतभेद नही है। समी धर्म-सम्प्रदायो को ध्यान मान्य है। यह. विकासशील ' मानव जेसे-जेसे वाह्य ससार में बढ़ता योग” एक चिन्तन ] [ सतह




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now