तीन दिन तीन घर | Teen Din Teen Ghar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Teen Din Teen Ghar by शील - Sheel

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about शील - Sheel

Add Infomation AboutSheel

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
प्रथम झंक श्ट गोदित : ( मुंह बना कर उठता हैं, शाडी परड़ कर ) 'अस्था बला । [ ऐड लाती की लादी धरूद कर भस्दर छाता है । हार खुलने गर मालिया बाएं ते बायें जाती दि्ाएँ देतो हु । मेरेज के झर्दर से ध्यामा डौन का दर जडुनडानी है 1 इपामा । ( भर्दर से ) रोटित की अम्मा दरवाज़ा साल दो काई दइरवाज़ की उंजार चरा गया दे में अन्दर हूं । (दर बडमदाती है। ) रादित झा राद्वित मेरी बजार साल द, ( लगा भर एक कर ) बहमाम निठानल करी ऋ (रह रे ) रालरोतर यह मज्ञाऊ अच्छा महीं । [ सेव बी भादाज शुन कर ऐप ऊपर से चक कर देखती हु । दतरे सर के घुने बात एने हुए सदूय रह हैं। ] शामा. कया पुआ र्यामा ! 'भाज फिर का जंजीर मस्द कर गया ! ( भोगे से उतर पर हार पोती है। ) श्यामा 1 पता लग जाए हो मुर को एमी सुनाऊँ कि सुनत मे पने । शाम । रा का पर पता फंसे लग । श्यामा मैं सममता थी कि घन्दू मज्ाइ ऋर रहा हूं बट सा भभी भाया दी नहीं । मैं बन्दू फ पे में रही [न थाने कोन हे जा मुमस सतना दे | (रस रर) मैं रयामा हूं श्यामा | पड़ढ़ पाई सो सात पुम्तों तक को तार दूँगी | मी




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now