नारी मन | Naari Man

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : नारी मन  - Naari Man

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about दीप्ति खण्डेलवाल - Deepti Khandelwal

Add Infomation AboutDeepti Khandelwal

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
वहया/15 गरम करवे पिलाया दोडकर मुहल्ले व वैद्यराज स दवा लाबर पिला दो--'लेदिन अशोक ! तर दम तो है नही र। डेंढ पसली का है. उस मुए कल्‍लन से का भिठ गया र 1” चदा न जशाव स पूछा । अशोक न अपनी दद नौर आआनुञजा से लाल अणे वोली-- 'बल्लन तुम्ह गाली दे रहा था मा। उसने तुझे उसने तुये अशाव उत्तेजना से कापने लगा था--“उसने तुझे छिनाल कहा मा । बेहया कहा बापू को भी गाली दी तो मैं सह गया लेक्नि तरी गाली नही सहमा । अच्छा मा, तू ही एक वार वह दे कि तू बेहया नहीं है--मैं मान लूगा, चाह फिर हर कोई कहता रह ।* और अशाक के प्रन वे उत्तरम 'बेहया” चादा पहली बार आचल से मुख ढापकर फट फटकर राने लगी थी ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now