श्री मोक्षमार्ग प्रकाशक | Moksha Marg Parkashan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Moksha Marg Parkashan by मगनलाल जैन - Maganlal Jain

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मगनलाल जैन - Maganlal Jain

Add Infomation AboutMaganlal Jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
८4 शानपिपासुश्रोंकी तृप्तिका कारण बनी हुई है और श्रापके वचन प्राचीन आचार्योंको तरह ही प्रमाण माने जाते हैं। स्वाभाविक कोमलता, सदाचारिता, जन्म-जात विद्त्ताके कारण ग्रूहस्थ होकर भी आचायकल्प' कहलानैका सौभाग्य आपको ही प्राप्त है । धर्म-जिज्ञासुस लेकर प्रीढ़ विद्वात सभीके लिये यह 'मोक्षमार्ग प्रकाशक' ग्रन्ध गति उपयोगी सिद्ध हुआ है । श्राज तक ३४२०० पुस्तकें हिन्दी, गरुतराती, मराठीमें छप चुकी हैं, वही इसकी उपयोगिता सिद्ध करती हैं । पण्डितजीका जन्म संवत्‌ १७९७छके लगभग जयपुरके खंडेलवाल जैन परिवार तथा 'गोदीका' मोन्नमें हुआ । जोगीदास आपके पिता थे और माताका नाम रम्भावाई था। बचपनमें ही इनकी व्युत्पन्नमतिकों देखकर इन्हें खूब पढ़ाकर योग्यतम पुत्र बनानेका निशुचय कर, ४-५ वर्षकी अ्रवस्थामें इन्हें पढ़ाने बठा दिया गया। वाराणसीसे एक विशेषविद्वान इनको पढ़ानेके लिये बुलाया गया । पं० टोडरमलजीको १०-१२ वर्षमें ही व्याकरण, न्याय एवं गणित-जैस कठिन विपयोंमें गम्भीर ज्ञान प्राप्त हौ गया। [ एक जनश्रुति श्री टोडरमलजीके जीवनके वारेभे सुनी जाती है कि-- एके नैन विद्वानने निमित्तज्ञान द्वारा जाना कि यह बालक अवश्य अपने जीवनमें धर्म- धुरंधर वीरपुरुष होगा..., पश्चात्‌ उन्होंने जयपुरके दीवान रतनचन्दजीसे निवेदन किया कि यदि इस वालकको पढ़ानेके लिये मुझे समपित कर दें तो अल्प समयमें ही सर्वोत्तम विद्वान बन जायगा । तब दीवान सा०» ने बड़े टूर्पके साथ, गाजे वाजेके साथ वालके माता पिताके पास जाकर उसे पढ़ानेका सुझाव दिया, जिसे माता-पिताने सहर्ष स्वी- कृत कर लिया । बालक थोड़ेसे समयमें ही पढ़कर आद्यातीत विलक्षण बड्धिमान बन गया | | इनकी स्मरणश्क्ति विलक्षण थी, गुरु जितना उन्हें पढ़ाते थे उससे श्रध्रिक याद करके उन्हें सुना देते थे | इनके शिक्षक उनकी प्रतिभा एवं सातिथय व्यत्वन्नमति- को देखकर दद्ध रह्‌ जात शोर इनको सूक्ष्म: बुद्धिकी भूरि भूरि प्रशंसा करते थे | मोक्षमाग प्रकाशक ग्रन्यकी भूमिकार्म स्वर्थंका परिचय दिया है कि “मैंने हस कालभे भनुष्यपर्याय पायी, वहाँ मेरा पूर्व संस्कारसे वा भला होनहार था इसलिये मेरा जनबमर्में अ्रभ्यास करनेका उद्यम हुआ । वह्‌ कथन श्रापकी पर्वभवक्ती साधना श्रौर वर्तमान असाधारण योग्यताको सूचित करता है। श्राप जन्मजबाहर तो थे ही, अपूर्य पुरुषाथके बल द्वारा आप महत्वपूर्ण ग्रात्मप्रज्ञाके घनो वन गये | ग्रताव थोहे ही




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now