बात बोलोगी | Baat Bologi

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Baat Bologi by शमशेर बहादुर सिंह - Shamsher Bhahdur Singh

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about शमशेर बहादुर सिंह - Shamsher Bhahdur Singh

Add Infomation AboutShamsher Bhahdur Singh

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
दुःख नहीं मिटा दुःख नहीं मिटा । घिरा और घुमड़ा आकाश । फिर बरसा दिन भर। खुला नहीं। बहीं हवाएँ भी बुंदियाँ भर-भर। झोंके भी हृदय उड़ाते हुए चले । पर खुला नहीं राग । सफल नही हुआ, बाह, सन का अनुवाद ! भूमे वन के वन हर-हर कर । नद बहे । घन घ्रे । लहरे मन-उद्यान । सीझ गये पत्थर । --फैंठिन किन्तु कवि-उर-प्रस्तर था जो उष्ण रहा तपता । कौन वह सावन की घड़ी होगी,--जब मन के झूलों पर फिर बरखा की पेंगें मल्हार गायेंगी'*“मन के झूलों पर फिर बरखा की पेंगें मल्हार ? ৮৫ >< आह्‌ आज प्लावन मेँ सखा यह्‌ तृण ! तुझे चुकाना है, को मेघराज, १५




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now