हिंदी - काव्य - शास्त्र | Hindi Kavya Shastra

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Hindi Kavya Shastra by आचार्य शांतिलाल जैन - Acharya Shantilal Jainडॉ लक्ष्मीसागर वार्ष्णेय - Dr. Lakshisagar Varshney

एक विचार :

एक विचार :

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

आचार्य शांतिलाल जैन - Acharya Shantilal Jain

आचार्य शांतिलाल जैन - Acharya Shantilal Jain के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

डॉ लक्ष्मीसागर वार्ष्णेय - Dr. Lakshisagar Varshney

डॉ लक्ष्मीसागर वार्ष्णेय - Dr. Lakshisagar Varshney के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
--सोलह---अप्रयुक्तत्व ग्राम्यत्व _ अश्लीलत्व अप्रतीतित्व क्लिष्टत्व(३) अर्थ-दोष प्रसिद्ध-त्याग नेयाथ त्व-दोष निहताथंत्व-दोष व्याहतत्व-दोष अपुष्टाथत्व-दोष पतत्प्रक्ष(४) छन्द-दोष गतिभङ्ग-दोप्र यतिभङ्गु-दोष हतकृत्तत्व(५) रस-दोषु स्वशब्द वाच्यत्व विभानुभाव की कृष्ठ कल्पना रसपुनरोद्दीत-दोष परिपथ रसाङ्ग परिग्रह छ्मकाणएड प्रथन श्रकारड छदन अड्भभूत रसातिबृद्धि अंगीविस्मृति दोष प्रकृतिविषयेय-दोष अनडुवर्णुन-दोष




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :