लोक - व्यवहार | Lok Vyavahar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Lok Vyavahar by श्री सन्तराम - Shri Santram

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about पं संतराम - Pt. Santram

Add Infomation AboutPt. Santram

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
१२ काम जो यह पुस्तक आप के लिए करेगी १--यह आप को मानसिक लोक में से निक्राल कर नवीन विचार, नवीन कल्पनाएँ और नवीन अकाक्षाएँ देगी। २--यह आप को शीघ्र और सहज में मित्र बनाने में समथ करेगी । ३--यद्द आप की लोकप्रियता बदायगी । ४--यह लोगों को अपने विचारों का बनाने में आपको सहायता देगी । ४--यह आप के प्रभाव को, आप के अधिकार को, काम कराने की आप की योग्यता को बढ़ायेगी । ६--इस की सद्दायता से आप नवीन मवक्किज्ष और नवीन ग्राहक बना सकेंगे। | ७-- यह्‌ आप की कमाने की शक्ति बेदायेगी । ८--यह आप को अच्छा विक्रेता एवं अच्छा कार्ये-निवोहक वना देगी । | ६--यह्‌ शिकायतों को निपटाने, विवाद से बचने, दूसरे मनुष्यों के साथ अपने संपर्क को स्निग्ध एवं मधुर रखने में आप को सद्दायता देगी । १०--यद्द आप को अच्छा वक्ता, और वातौलाप में अधिक निपुण बना देगी। ,११--यद् आप के लिए प्रति दिन के संपर्का में मनोविज्ञान के नियमो का प्रयोग करना सहज कर देगी। १२ यदह आप को अपने संगी-साथियों में उत्साह भरने में सहायता देगी ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now