चरणदास जी की बानी | Charan Das Ji Ki Bani Bhag Ii

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : चरणदास जी की बानी  - Charan Das Ji Ki Bani Bhag Ii

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
भेद बानी श्द्‌ उनमुनी श्र चित हेत करि बसि रहो देखि निज रूप मनुवाँ मिलायो ॥ ७ ॥ काल रु ज्वाल जग व्याधि सब मिरि गईं जीव सूँ हम गति बेगि पायो ॥ ८ ॥। चरनदास. रनजीत सुकदेव को दया सू अभय पद एरसि झवगति समायो ॥ £ ॥ शल्द २३ ॥ राग सारंग च विलावल व सोरठ ॥ साधो अजब नगर अधिकाई । झौघट घाद बाद जहूँ बाकी उस मारग हम जाई ॥ १ ॥। सबने बिना बहु बानी सुनिये बिन जिस्या स्वर गावें । बिना नेन जहूँ अचरज दीखे बिना अंग लिपदावे ॥ २ ॥ बिना नातिका बास पुष्प की बिना पाँव गिर चढ़िया । बिना हाथ जहेँ मिली धाय के बिन पाधा जहूँ पढ़िया ॥ है ॥। ऐसा घर बड़भागी पाया पहिरि गुरू का बाना । निस्वल है के दाता मारी मिटि गयो झावन जाना ॥ ४ ॥। गुरु सुकदेव करी जब किरपा झचुभो जुद्धि प्रकासी । चौथे पद में झयानंद यारी चरनदास जहूँ बासी ॥ ४ ॥ शब्द २४ ॥ राग सीठना ॥ टुक निगुंत छेज़ा सूँ, कि नेह लगाव री । जा को अजर अमर है देस, महल बेगमपुर री ॥ १ ॥ जहें सदा सोहागिन दोय, दिया सूँ भिलि रहुं री । जह आावा गवन न होय, मुक्ति चेरी तेरी ॥ २ ॥ ' कहें चरनदास शुरु मिले, सोई हाँ रहु वौरी । तन सुख सागर के बीच, कलहरी* है रहु री ॥ ३॥ (१) पहाड़ । (९) कल्वारिन |




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now