दिवाकर दिव्य ज्योति | Diwakar Divya Jyoti

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : दिवाकर दिव्य ज्योति - Diwakar Divya Jyoti

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्री जैन दिवाकर - shree jain divakar

Add Infomation Aboutshree jain divakar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सियोगति की बातना्ं ] { ६. ১ तल न सके हैं। उसके पेर बाँध देते हैं और फिर उसके शरीर पर लकड़ियों से बिर्देयता पूरक प्रहार करते है। मासते-मारते जब पांडे की चमड़ी सुब सू जाती है, तब से मार डालते हैँ श्रौर उस चसड़े को शरोर पर से उतार कर तत्काल ही नगाडे पर सद्‌ देते है । तव कहा - बह नगाड़ा वोनत्ता ই 1 इस प्रकार नगाड़ो के लिए भी पचेन्द्रिय जीवो की घात होती है। इस कारण बहुत-से मन्दिरों मे तो नगाड़े बज्ञाना बद कर दिया गया है | एक आदमी ने नगाडे की जोडी बनवाई । उसके लिए किसने पाडे मारे गये, यह सब हाल बनाने वांले ने मुझे बतलाया था ।' चनवाने बाले का नास भी मुझे याद है, परन्तु उसे प्रकट करने ' की आवश्यकता नहीं। यह हमारे ससार के ही गाँव की बात ই।, किन्तु जो बातत एक गाँव में है, वह अन्यत्र भो है । भादयो ! आए लोग कीडियो की दया पालने बाले है,किन्तु आप नहीं जानते कि दिन-रात आपके फॉम में आने वाली चीजों के लिए हजारों पचेन्द्रिय जौलवरों की हिसा हो रही है! यह चमड़े की मुलायम चीजें केसे बनती हैं ! गर्भेवतों गाडर के पेट में जोर से लातें मारी जाती हैं | लात के आघात से गाडर का गर्भ गिर जाता है और गर्भ के चमडे से मुलायम मनीबेग ( बढुए ) आदि- आदि चीज तैयार होती है ! कहिए, कितनी घोर हिंसा है ? इस हिसा को दयावान्‌ श्रावक कभी सहन कर सकता है ९ आप यह न सोच लें कि हम अपने हाथ से हिंसा नही करते श्रतएव हमे उस हिसा का भागी नहो बननां पडता । रेषा सम- मन] अपने को घोखा देना है 1 नो लोग ठेसी दिसामय वस्तुओं




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now