ज्ञान सर्वोदय | Gyan Sarvodaya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : ज्ञान सर्वोदय - Gyan Sarvodaya

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about स्वामी चरणदास जी - Swami Charandas Ji

Add Infomation AboutSwami Charandas Ji

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
झानएचरोद्य । १५ सोलह दिन ।नि।शिा।देन चले,शवास बार कशोर ठ .आंय जान इछ मसकी,जीव जाये तनुछार८ट०॥ ते। भकंदी तह अवश, पीचतदारक्ा আল 11; नासा ।जेह। एक6| कालमेढ्‌ पाहेचान ॥६०॥ : भेद गुरता पाहुए। गुरु (वर लहाह ने ज्ञान || चर्यदाप् य्‌ा ददद्‌ ६, गुस्पर्‌ उर प्रान ६३४ एष पष्ठ जा रेन ।4ब सतु दहता हाय) 13 লং जावाएन दायू॥६ २॥ - महज सपएए चक, १८च षहा उर । * पच ড় सर्द वह, तंबह!ं चर प्रज[|य६8३॥ नहें। चंद नाई सूर & नहें। इुषुमष्ठा बाल।: मुंच पेती श्वास चले, पड़ी चार भें काल&४| -चार्‌ दना ई आठ | दन, बारह के दिन वीस्‌। ! प्र जब चंदा पल আত আল নও २२।\९५॥ पोन रातज दयन ष्दन, चले दंत आकाश 1; -पक ३१ दमया र एर छात [श्वास ॥६९॥ 4 दिन को .तो चन्दा चले; चले रात की सर । स अ 9 ৯540 9 > 22, ৯০ 7১০০ ১১ ০ ५४ ९




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now