दूसरा आदम | Doosara Aadam

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : दूसरा आदम - Doosara Aadam

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about नीरज - Niraj

Add Infomation AboutNiraj

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
হব] ইত आदम नारे लगाने খাল ভীম हमारे निकट भाग्ये, तो মাঘী মানু? বানু কী তাঁতী डयूटी पर है हैं तो है । इसलिए कोई भी कर्मचारी काम नही जायेगा-... बन, टीने हमे हडताल से कोई मतलब नही है । का; মী तभी पीटर सामने भाया- ग भपने (न कहा । तए ही तो यह्‌. फायदा होगा হু মানা নানু, आर हम नही के हे हैं सभी को जो भी हो, हम लोग काम पर जायेगे ही! कहकर माधो बावू आग्रे बढ़ने लगे एक कई ल) सामने जमी पर पढ़ गये है, जाना है) है तो रे से आप इतने गिरे द यही ठीक रहेगा। फ़िर सभी पे सड़क पार करने लमे। म भी सिर पगा। तभी कि; शी ने मेरा शूका, ९ पीछे-पीचे चलने पकृडकर अधनी गीर এ देखा टिया था । ঘীং জী বালা, जय मेरे युमः जरूरी पाते करनी है मे अपने नि के. व थोड़ी हर चला गे भाटि मेरे के দাবী ই শিকল কা ढ़ शमो पे बे সা साथ रहते ३. জাতি पनिष्ठा यौ}




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now