पाया - सद्दा -म्हणावो कम्प्रेहैन्सिव प्रकृति -हिंदी शब्दकोश | Paia-sadda-mahannavoa Comprehensive Prakrit-hindi Dictionary Part-i

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Paia-sadda-mahannavoa Comprehensive Prakrit-hindi Dictionary  Part-i by अज्ञात - Unknown

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सन्‍्स ह नह हल कर कानेराद न के ढ हे नर सा हे भिनमकथरट - कक ह 4 गे र लग्न दर है न क्् यार मर सदन्याग्यमका के व 2 कस 2ध्मननपनमधणय रमपदरनयम दरमिययियरं चदंनपलरसलनिकमममतन्यस रन नमसमापवथपनिसमयमानय निकल अब दे दे. 25 22 2 222 ाालनिमिनन पिन धर न१. नननमन्रचर था पाइअसदमहदण्णवो | ३ के अंघाव-अंविठ हक अंघाव वक अन्बय्‌ झंधा करना । अ्ंघानिड किक्र अंवमसी स्त्री दे कठिनि श्रोरत वासी कनिक दे प्य्द ह || अंधिभा स्त्रो अन्विका बत-्विशेष दे २.१ । अंघिदरग त्रि अन्य अत्था जन्माँघ पगह ३ थे | अंबोकिद शो थि अन्योकत | अध किया हुआ नयलपाथा धर सपा अंवबाई स्त्रो अम्बाघाज्ञनो | घाई माता छुपा २६८३ । पे श् हि 1 अर हु अंत्रय देखा मंत्र सुपा देडेड 2 अंब्रर न अम्वर १ आकाश पि .. स्वप्र इ् । २ बह्व कड़ा पाम्र निचू १ ।. तिलय. पुं रन. अंयुपु अत्यु तु का कुँया प्रामा दे ११८ | तिछक पॉतनव्तिय शात्र ।. वित्थ न 1. सअंबेदछग देवा अधिदलग विगड । बल्न स्वच्छ घस्त्र कप्प । अंप पुं फम्प कंपन से 2 ३२९ | उंव पुं. अम्व एक जात के पारमाधघाभिक देय जा नरक के जोवों को दुख देते है सम र८ । अंत्र पुं आघ्र | १ श्राम का पेड २ न आम झान्न-फल अपडिप् पुन अध्यद्वि | १ सदी भाड़ भग दे ६ ह | २ कोट्क जीव ३ ।. ३ पुं नार्क-जीवों को डुम्ख देनेवाले एक प्रकार के पारमाघासिक देव 4 पव १० है | अंबररिसि पुं. अम्वस्षि | १ ऊरर का तोसरा श्रर्थ देखो पथ ा्गन पाथ्र भेग २.२ . जे बफि थ. भय कािग किकएं पा फल 1. है १ ४ । गद्िपा स्वो दि | आम को आंटो | सम रद ।. २ उज्नयिनो नगरो का निवासी एक ब्राह्मण 1 गुज्ली निच १४ | चोयग न दे १ अाम |. झ्ाव । थ १४ | डालग न दे घ्राम का छोटा ठुकड़ा श्राचा | अंवससिआा _ . ा ४ २ | पिसिया स्त्रो पिशिका झ्ाम का लम्बा | अंवसमों देखो अवप्रसी । ड इकड़ा निच १४ । सित्त न दे आम का | अंवहडी स्त्री अम्वहुण्डी एक देवी महानि २ । बट दकड़ा निचू १५ । सालग न दे आम को | अं्रा स्त्रो अस्वा १ माता सा स्वप्र रर४ । २ हर व छाल निच_ १४ |. सालवचण न. शालवन | |. भगवान्‌ नेमिनाय को शासन-देवो. संपत्ति १० 1 ३ है थ जद. पेत्यविशेष राय । .. वल्ली-विशेत्र परण १ । अंब न अम्ल १ तक सदा जं.3 1. २ ख़ट्ा | अंवाड सक खर्ण्टू खरडना लेप करना चमंडति हर पर. हहप र खट्टी चीज विषे । ४ वि निश्धर वचन |. खरण्टेति झंबादति ति बुत भवति निचू ४ | हद कल वोलने वाला .वूदद १ | अंबाड सक तिरलू + के उपालभ देना तिरस्फार ५ अंच वि आस | १ खट्टो वस्तु ९ मद से संस्कृत चीज करना तम्रा हफ्कारिय्र अवाडिया सणिया ये महा । न का रच अंवाडग? पुं आब्रातक १ झमज्ञा का - 7. जैव नि तात्र | लाल र्क्त-वर्ण वाला से ै.रे४ । | अंवाइय ? पगण १ पउम ४२ ६ |. र०न भरासला टू । |... मत देखा अं बन्टआत्र अर द्विया सी स्थि का फल अनु ६ । मी हा नाम की गुस्ली अणु | अंवाडिय वि तिर्स्कृत १. तिरस्कत महा । रे २ आम को छाल झाचा निचु का सछा निच १४ ै। ३ । _डगल न दे | राम का टुकड़ा पुं अम्च्ठ १ देश-विशेष पउम £ ८ ६६४ है । र जिसका पिता ब्राह्मण ओर माता वैश्य -हो वह सूझ पेड कप ः अब पुं असश्वड १ एक परिवाजकं जो महाविदेह जेल में जन्म लेकर मोक्ष . जायगा श्रीप ।। २ भगवान मददावोर का एक श्रावक जो आागामो चौविसी में ९९ थॉं तीथेकर होगा ठाह | + . 1 पड वि दे कठिन दे १ १६ 4 + ६1० अंबरीस देखा अंचरिस । अंबरोखि दा अंचरोखि | । २ उपालब्ध स १९. | अंधिआा सती अस्विका १ भगवान्‌ नेमिनाथ की शॉोसन- देवों तो १० । २ पांचवें चासुदेव की साता पम ३० १८४ |. समय पुं - समय गिरनार पवत पर का एक तीथ स्थान तो ४ ८८ 1 अंबिर न आख्र भोम॑ का फल दे १.१४ अंधिल पु आस्ल १ खट्टे रस सम ४१५। २वि खद्टाई वाली चीज खड़ी वस्तु शोध ि४० शा सनक एएपाबाल यु ही गरट्रकलारााव्का सा इर पट वी 2 - ऊन 0 - दर को




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now